गुमनामी के अँधेरे में डूबते जा रहे हैं Bollywood PRO

0
156
Raju kariya
Raju kariya

मुंबई | अगर पिछले पचास सालो में सिल्वर स्क्रीन पर बडे बडे स्टार आये है तो उन्ही स्टारो को समस्त विश्व मे अपने पब्लिसिटी के हुनर द्वारा चमकाने का श्रेय रखनेवाले Bollywood PRO भी इसी मायानगरी मे पहले से उपलब्ध थे|वी़पी साठे , आर.आर.पाठक, राजेद्र राव,राजा गजा , Raju Kariya कई प्रचारको ने कई लोगों को स्टार बना दिया |ये प्रचारक आज कही गुम होते जा रहे हैं|

राज कपुर और सुभाष घइ को अगर बालीवुड का शो मेन कहा जाता है तो उसके पीछे सिर्फ स्वर्गीय PRO बन्नी रूबेन की मेहनत थी,उसी जमाने में साउथ मे जितनी भी बाँलीवुड के बडे बडे स्टारो की फिल्म बनती थी तो उन फिल्म की प्पब्लिसिटी की सारी जिम्मेदारी सिर्फ गोपाल पांडे को ही सौंपी जाती थी क्योंकि जैसे बिना नमक के सब्जी अधूरी है वैसे ही और बिना P.R.O फिल्म नही बनती|

एक समय था जब मुंबइ की फिल्मे वी़पी साठे, आर.आर.पाठक,राजेद्र राव,राजा गजा व अन्य कई प्रचारक ही संभाला करते थे|

हाल ही में बोलीवुड के वरिष्ठ फिल्म प्रचारक आर.आर पाठक जी के निधन के बाद बोलीवुड मे एक सन्नाटा छाया हुआ है अब केवल एक राजु कारीया ही इस पीढी के वरिष्ठ प्रचारक बचे है और वे भी पाठक जी के जाने से काफी गमगीन है |

Raju Kariya का कहना है कि “अब हमारी पीढी का अंत नजदीक है मै उन सभी वरिष्ठ प्रचारको की आत्मा की शांति के लिये भगवान से प्रार्थना करता हूँ | मैने मेरे जीवन मे मेरे वरिष्ठ PRO से बहुत कुछ सिखा था मै जब तक जीवित हूँ उन्हें हमेशा याद रखूँगा यही मेरी उनके लिये सच्ची श्रद्धांजलि होगी |”

राजु का मानना है अब शायद मीडिया में निर्माता निर्देशक और स्टार के बीच के रिश्ते भी पारिवारिक नही रहेंगे ,क्योंकि पिछले 15 -20 सालों में मीडिया में बहुत फर्क आ गया है |

पहले केवलप्रिंट मीडिया ही हुआ करता था रोज सुबह होते ही लोग अखबार (न्युज पेपर )का इंतजार करते थे ,लेकिन बाद मे टी.वी न्युज ने अपना कब्जा कर लिया और देखते देखते अब सोशल मिडीया ने भी ऐसा आक्रमण कर दिया की जो खबर अखबार द्वारा आम जनता को दूसरे दिन मिलती थी अब वही खबर कुछ मिनट में समस्त विश्व को नेट पर मिल जाती है |

पहले स्टार और मीडिया के बीच एक प्रचारक होता था मगर अब सब कुछ बदल गया है |ऐसा लगता है अब धीरे धीरे Bollywood PRO का अस्तिव समाप्त होने के कगार पर पहुँच गया है|