Thappad Movie Review: … तो पुरुष शर्मिंदा जरूर होंगे !

0
497
thappad

मुंबई।  रा.वन और मुल्क जैसी फिल्म बनाने वाले अनुभव सिन्हा के  डायरेक्शन में बनी फिल्म थप्पड़ इस शुक्रवार को रिलीज़ हो रही है। फिल्म में तापसी पन्नू लीड रोल में हैं। 


वैसे तो पति-पत्नी के आपसी संबंधों पर कई फ़िल्में बनी हैं लेकिन अनुभव सिन्हा की थप्पड़, समाज में आदमी और औरत के उस रिश्ते पर तमाचा है जिसमें पुरुष, महिला के आत्मसम्मान से खेलता है और उसे अपने किये का एहसास भी नहीं होता। ये कहानी  दिल्ली की पॉश सोसाइटी  में रहने वाली अमृता (तापसी पन्नू ) और उसके पति विक्रम (पावैल गुलाटी ) की है। 

 तापसी हाउसवाइफ है पति ऑफिस में काम करता है।  दोनों का सपना है कि वो लन्दन जा कर सेटल हो जाएँ। उनका जाना तय हो जाता है। उससे पहले घर में एक पार्टी  होती है जहाँ कुछ ऐसा होता है कि विक्रम अपनी पत्नी को थप्पड़ मार देता है।  बीवी इस बात से टूट जाती है। उसके आत्मसम्मान पर इस कदर ठेस पहुँचती है कि वो न खुद से प्यार कर पाती है और न ही अपने पति से। फिर आगे क्या होता है ये फिल्म में देख सकते हैं। 

 
चाहे कुछ भी हो किसी पुरुष को महिला पर या पति को पत्नी पर हाथ उठाने का कोई अधिकार नहीं है। और इसी सोच के साथ लिखी गई फिल्म की कहानी और स्क्रीनप्ले बेहतरीन है। तापसी पन्नू ने कमाल का काम किया है और पूरी फिल्म अपने कन्धों पर निकाली है।  पहली फिल्म कर रहे पावैल भी ग्रे जैसी भूमिका निभाने में सफल रहे हैं। 

दीया मिर्ज़ा, कुमुद त्रिपाठी और रत्ना पाठक शाह ने भी अच्छा काम किया है।  इस फिल्म को देखने के बाद थियेटर से बाहर आने वाला हर पुरुष ये सोचने पर जरूर मजबूर होगा कि क्या उसने अपनी ज़िन्दगी में ऐसी कोई गलती की है ? इस फिल्म को पांच में से चार स्टार मिलते हैं।