Zee5 करेगा नागराज मंजुले की पुरस्कार विजेता मराठी शॉर्ट फिल्मों का प्रीमियर

0
199
Zee5

मुंबई | Zee5 अक्सर अपने नए कंटेंट के साथ अपने दर्शकों के लिये कुछ नया लाता रहता है और यही नहीं ज़ी5 अपने दर्शकों को विभिन्न भाषाओ में कंटेंट के साथ मनोरंजन करने के लिए जाना जाता है।हाल ही में काली 2, लालबाजार और नक्सल के साथ मनोरंजन करते हुए, ज़ी5 अब नागराज मंजुळे की तीन पुरस्कार विजेता मराठी शॉर्ट फिल्मों का प्रीमियर करेगा |

ज़ी 5 नागराज मंजुळे द्वारा निर्देशित ‘पावसाचा निबंध , गार्गी कुलकर्णी द्वारा निर्देशित ‘बीबटया – द लेपर्ड’ और मिथुनचंद्र चौधरी द्वारा निर्देशित ‘पायवाट’ का प्रीमियर करने वाला है|

भारत के सबसे बड़ा वीडियो स्ट्रीमिंग डिजिटल प्लेटफॉर्म ज़ी5 द्वारा लगातार विभिन्न भाषाओं और शैलियों में नया और अद्भुद कंटेंट रिलीज़ किया जा रहा है। इस साल की शुरुवात में, मंच ने एक अनोखा स्टार-स्टडेड शॉर्ट फिल्म फेस्टिवल का प्रीमियर किया था, जिसमें पुरस्कार विजेता लघु फिल्मों की एक श्रेणी पेश की गई थी। अब, ज़ी5 विशेष रूप से राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक नागराज मंजुळे द्वारा निर्देशित और प्रस्तुत तीन मराठी लघु फिल्मों का प्रीमियर 15 जुलाई को आज करने जा रहा है |

निर्देशक और प्रस्तुतकर्ता नागराज मंजुळे ने कहा, “सभी तीन शॉर्ट फिल्मों में एक अनूठी कहानी है और मुझे उम्मीद है कि दर्शक उसी तरह प्यार की बरसात करेंगे जैसे वे अब तक करते आये है। ‘फैंड्री’ के सेट पर, हमें बारिश के कारण हमारा शूट रोकना पड़ा था। इस ब्रेक ने मुझे बारिश के बारे में अपने बचपन की याद दिला दी, जिसमें से ‘पावसाचा निबंध ‘ का जन्म हुआ। यह बहुत अच्छा है कि वैश्विक पहुंच के साथ एक वीडियो स्ट्रीमिंग डिजिटल प्लेटफॉर्म शार्ट फिल्मों की कला को पहचानकर उन्हें प्रोत्साहित कर रहा है। ‘पावसाचा निबंध’, ‘बीबटया- द लेपर्ड’ और ‘पायवट’ का प्रीमियर 15 जुलाई को Zee5 पर किया जाएगा।”

नागराज मंजुळे द्वारा निर्देशित ‘पावसाचा निबंध’ ने गैर-फीचर फिल्म श्रेणी में लॉस एंजेलिस इंडियन फिल्म फेस्टिवल और द सिल्वर लोटस अवार्ड फॉर बेस्ट ऑडियोग्राफी के लिए नेशनल फिल्म अवार्ड्स में सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म के रूप में प्रशंसा हासिल की है। इस कहानी में, निर्देशक ने एक सुखद और रमणीय तरीके से रोमांटिक बारिश को बयां किया है जिसे देखकर दर्शकों को फिल्म और बारिश दोनों से प्यार हो जाएगा।

गार्गी कुलकर्णी द्वारा निर्देशित और नागराज मंजुळे द्वारा प्रस्तुत ‘बीबटया द लेपर्ड’ की कहानी एक तेंदुए के इर्द-गिर्द घूमती है, जो मवेशियों को मार रहा है और इसके कारण ग्रामीणों की जिंदगी अस्तव्यस्त हो जाती है | इस सब के बीच, एक छोटी लड़की गायब हो जाती है जिसके बाद पूरा गाँव उसे ढूंढने में और तेंदुए को पकड़ने के प्रयास में लग जाते है। लेकिन क्या इससे सुरक्षा और स्वतंत्रता सुनिश्चित होगी?

मिथुन राजचंद्र चौधरी द्वारा निर्देशित और अनुभवी निर्देशक नागराज मंजुळे द्वारा प्रस्तुत ‘पायवाट’, एक दिल छूती हुई कहानी है जिसमे भूमि मजदूरों की बेटी माएडीअपने रोजमर्रा कामों को पूरा करने के बाद, वह अपनी स्कूल यात्रा शुरू करती है। उनके जीवन में एक दिन का चित्रण दिखाया जाएगा। फिल्म की कहानी कई दिलों में अपनी जगह बनाने में कामयाब होगी |

नागराज मंजुळे सबसे कठिन विषयों को सुन्दर तरीके से बिलकुल सरल और यादगार रूप में प्रस्तूत करने के लिये जाने जाते हैं |इसका सबसे अच्छ उदाहरण ‘है उनकी फिल्म सैराट’ जो एक सुपर डुपर हिट बन गयी थी जिसने आलोचकों व दर्शकों द्वारा समान रूप से जबरदस्त प्रतिक्रिया हासिल की थी।

ज़ी 5 के अभूतपूर्व मराठी लघु फिल्मों धागा’, ‘स्ट्रॉबेरी शेक’ और कई अन्य फिल्मों के बाद अब दर्शक अ इन पुरस्कार विजेता लघु फिल्मों को भी देख सकते हैं।