Sushant Singh Rajput Case : एम्स की आधिकारिक पुष्टि , आत्महत्या से हुई अभिनेता की मौत, हत्या का कोई सबूत नहीं

0
164
Sushant Singh Rajput
Sushant Singh Rajput

मुंबई | एम्स के फोरेंसिक मेडिसिन विभाग द्वारा गठित मेडिकल बोर्ड द्वारा इस बात की आधिकारिक पुष्टि की गयी है कि अभिनेता Sushant Singh Rajput की हत्या नहीं की गई थी बल्कि आत्महत्या के कारण ही उनकी मृत्यु हुई है |मीडिया सूत्रों के अनुसार ,राजपूत की मौत के तरीके और कारण का पता लगाने के लिए गठित मेडिकल बोर्ड के अध्यक्ष डॉ सुधीर गुप्ता ने कहा “यह फांसी लगाकर आत्महत्या से मौत का मामला है । ” अभिनेता को 14 जून को मुंबई में अपने अपार्टमेंट में लटका पाया गया था।

डॉ गुप्ता ने कहा, “दिवंगत अभिनेता के शरीर पर लटकने से गर्दन पर पड़े निशानों के अलावा किसी भी तरह की चोट के कोई अन्य निशान नहीं थे। हमें शरीर और कपड़ों पर संघर्ष या हाथापाई के कोई निशान नहीं मिले |”

दरअसल, मुंबई पुलिस ने अगस्त में सीबीआई टीम को बताया था कि वे आश्वस्त थे कि यह आत्महत्या का मामला है और उन्हें किसी भी तरह की धोखाधड़ी या बेईमानि का पता नहीं चला है । हालांकि, राजपूत के परिवार के वकील, विकास सिंह ने 25 सितंबर को कहा कि यह गला घोंटने से मौत का मामला है |

एम्स ने मृतक अभिनेता के विसरा (आंतरिक अंगों) के नमूनों पर परीक्षण किया और मौत के कारण के रूप में किसी भी तरह के पोइजन से इनकार किया। डॉ गुप्ता, जो एम्स में प्रोफेसर और फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के प्रमुख हैं, ने कहा कि इसमें कोई जहर नहीं मिला था |मुंबई में फॉरेंसिक साइंसेज लेबोरेटरी (FSL) ने भी मुंबई पुलिस को इस बात से अवगत कराया था जब वे शुरू में मामले की जांच कर रहे थे।

सूत्रों ने कहा कि एम्स की टीम ने अपने निष्कर्षों को साझा करने के लिए सीबीआई के साथ एक बैठक की, जो मामले की जांच कर रही है । हालांकि, यह पुष्टि नहीं की गई है कि एम्स ने लिखित रूप से मामले में अपने निष्कर्ष प्रस्तुत किए हैं या नहीं।

एम्स के फोरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम ने दिवंगत अभिनेता के फ्लैट का निरीक्षण करने के लिए सितंबर में मुंबई का दौरा किया था जहां उन्होंने फांसी लगाई थी और फांसी के सीन को रिक्रियेट किया था। सूत्रों के अनुसार जिस कपडे से फांसी लगायी गयी थी उसकी टेंसाइल स्ट्रेंथ भी चेक की गयी थी |
उन्होंने मुंबई के कूपर अस्पताल के डॉक्टरों से भी बातचीत की थी जिन्होंने 34 वर्षीय अभिनेता की मृत्यु के बाद पोस्टमार्टम किया था क्योंकि परिवार कह रहा था कि अभिनेता की हत्या हो सकती है। बाद में, फोरेंसिक यूनिट जिसने पोस्टमार्टम किया था, उन्हें CBI के गेस्टहाउस में बुलाया गया था, जहाँ डॉक्टरों को यह बताने के लिए कहा गया था कि कैसे उन्होंने लिग्रेचर स्ट्रैगुलेशन की संभावना को खारिज कर दिया था।

मेडिकल बोर्ड के सूत्रों ने कहा कि मौत के कारण और तरीके पर एक निष्कर्ष पर पहुंचने में एक महीने से अधिक समय लग गया क्योंकि कूपर अस्पताल में किए गए पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी उपलब्ध नहीं थी। एक सूत्र ने कहा, “अस्पताल में शव परीक्षण के दौरान के फोटोज भी नहीं थे।”

हालांकि सूत्रों के अनुसार एम्स की टीम के एक सदस्य ने कहा कि यह जो निष्कर्ष निकाला गया है , यह सभी उपलब्ध साक्ष्यों के उचित विश्लेषण पर आधारित है। यह हमारी अंतिम राय है। इस मामले में हमें सौंपी गई ड्यूटी खत्म हो गई है और इसे अंतिम निष्कर्ष माना जाना चाहिए| “