सिर्फ 5000 रुपए में की थी पहली फिल्म, महाकवि ने दिया था नाम… ऐसे हैं अपने Amitabh Bachhcan

#BigB #AmitabhBachhchan #HappyBirthday #Today #Mumbai

0
278
Amitabh Bachhcan
Amitabh Bachhcan

BolBolBollywood, Special Story, मुंबई। बॉलीवुड के महानायक Amitabh Bachhcan आज अपना 78वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं। उन्हें दुनिया शहंशाह, एंग्री यंग मैन और ना जाने कितने ही नामों से जानती है। वे पिछले 5 दशकों से फिल्म इंडस्ट्री का हिस्सा हैं। 7 नवंबर के दिन साल 1969 में उनकी पहली फिल्म सात हिंदुस्तानी रिलीज हुई थी। साल 1969 से शुरू हुआ अमिताभ बच्चन का सफर आज तक सक्सेसफुली जारी है। अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachhcan) हरिवंश राय बच्चन के पुत्र हैं और हरिवंश राय बच्चन छायावाद के एक बड़े स्तंभ थे। इसी छायावाद युग में हिन्दी का एक ऐसा कवि भी था जिसे लोग ‘इंडिया का वर्ड्सवर्थ’ कहते थे। इस मशहूर कवि का नाम सुमित्रानंदन पंत था। मशहूर कवि सुमित्रानंदन पंत ने ही अमिताभ बच्चन को अमिताभ नाम दिया था। दरअसल, जब 11 अक्टूबर को अमिताभ का जन्म हुआ तो बचपन में उनकी मां तेजी बच्चन उन्हें मुन्ना कह कर बुलाती थी। बाद में पिता हरिवंश राय बच्चन ने उनका नाम इंकलाब रखा।
अब चूकि हरिवंश राय बच्चन स्वयं एक बड़े कवि रहे तो उनके घर अक्सर इलाहाबाद में कवियों की महफिल जमती थी। एक बार ऐसे ही कवि सुमित्रानंदन पंत उनके घर आए। उन्होंने अमिताभ को देखा और पूछा बेटा तुम्हारा नाम क्या है। अमिताभ ने कहा-इंकलाब। पंत इस नाम से खुश नहीं हुए और तुरंत कहा-इसे अमिताभ नाम से बुलाओ। बस फिर क्या था, उसी दिन से इंकलाब अमिताभ बच्चन बन गए। पंत को शायद उस वक्त मालूम नहीं था कि एक दिन अमिताभ वाकयी अपने नाम को सिद्ध कर देंगे और उनको पूरी दुनिया जानने लगेगी।

ऐसी मिली थी पहली फिल्म
सदी के महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) की पहली फिल्म का नाम सात हिन्दुस्तानी है। ये फिल्म ख्वाजा अहमद अब्बास के द्वारा लिखित, निर्मित और निर्देशित थी। इस फिल्म में गोवा को पुर्तगाली शासन से मुक्त कराने की सात हिन्दुस्तानियों की कहानी दिखाई गई थी। फिल्म में उत्पल दत्त, मधु, एके हंगल के साथ अमिताभ बच्चन ने मुख्य भूमिका निभाई थी।
फिल्म सात हिन्दुस्तानी में टीनू आनंद कवि की भूमिका में थे और अमिताभ बच्चन को टीनू आनंद के दोस्त के किरदार के रूप में चुना गया था। कवि का किरदार इस फिल्म में काफी अहम था। हालांकि होनी को कुछ और ही मंजूर था। हालात ऐसे बने की टीनू को ये फिल्म कुछ कारणों से छोड़नी पड़ी। इसके बाद अमिताभ बच्चन को कवि का लीड रोल मिला और इसी तरह अमिताभ बच्चन का फिल्मी सफर शुरू हुआ।

7 हिन्दुस्तानी के लिए अमिताभ को मिले थे इतने पैसे
बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि सात हिंदुस्तानी के लिए अमिताभ बच्चन को कितनी फीस मिली थी। उस दौरान इस फिल्म के लिए अमिताभ को 5 हजार रुपये फीस के लिए तौर पर दिए गए थे। हालांकि उस दौर में एक्टर की मांग इससे ज्यादा की होती थी। कम फीस के चलते भी अमिताभ बच्चन ने पीछे मुड़ के नहीं देखा और इस फिल्म के लिए तैयार हो गए। हालांकि ये फिल्म कुछ खास कमाल नहीं कर पाई, लेकिन इसके बावजूद फिल्म के बाद अमिताभ ने कई सुपरहिट फिल्में दी।