कंगना और रंगोली के खिलाफ #देशद्रोह की धाराओं में केस दर्ज

#Kangna #Rangoli #FIR

0
118
Kangna Rangoli
fir registered against kangana ranaut and her-sister rangoli chandel

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर कंगना रनौत और उनकी बहन के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज हुई है। दोनों बहनों पर सांप्रदायिक नफरत फैलाने का आरोप लगा है। दोनों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 295(ए) 153 (ए) और 124(ए) के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। बता दें कि बांद्रा कोर्ट ने कास्टिंग डायरेक्टर साहिल अशरफ सय्यद की शिकायत के बाद हाल ही में कंगना और उनकी बहन के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुन्ना वराली और साहिल अशरफ सैयद नाम के याचिकाकर्ताओं ने अदालत में एक याचिका दायर की गई थी, जिसमें कंगना के ट्वीट को भड़काऊ बताते हुए उनपर एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो याचिका में आरोप लगाया गया है कि कंगना अपने ट्वीट और TV चैनलों पर Interveiw के जरिए हिन्दू और मुस्लिम कलाकारों के बीच खाई पैदा कर रही हैं। कोर्ट के इस आदेश और एफआईर दर्ज होने के बाद कंगना की मुसीबत और बढ़ सकती है।

गौरतलब है कि कंगना की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। इससे पहले कर्नाटक के एक कोर्ट की तरफ से नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों की तरफ से किए जा रहे आंदोलन के खिलाफ ट्वीट के चलते केस दर्ज करने का आदेश दिया था। कंगना लगातार पिछले कई महीनों से विवादों में रही हैं।

हाल ही में BMC ने उनके अवैध निर्माण वाले आॅफिस के हिस्से को गिरा दिया था। इसके बाद बीएमसी के खिलाफ कोर्ट में जाते हुए कंगना ने मुआवजे की मांग की है।



IPC, 1860 की धारा 295A, 124A, 153A

  1. भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 295अ के अंतर्गत वह कृत्य अपराध माने जाते हैं जहां कोई आरोपी व्यक्ति, भारत के नागरिकों के किसी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के विमर्शित और विद्वेषपूर्ण आशय से उस वर्ग के धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करता है या ऐसा करने का प्रयत्न करता है। यह अपमान, उच्चारित शब्दों या लिखित शब्दों द्वारा या संकेतों द्वारा या दृश्यरूपणों द्वारा या अन्यथा किया जा सकता है।
  • क्या है धारा 124 ए?
    भारतीय दंड संहिता यानी इंडियन पीनल कोड की धारा 124 ए को ही राजद्रोह का कानून कहा जाता है। अगर कोई व्यक्ति देश की एकता और अखंडता को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधि को सार्वजनिक रूप से अंजाम देता है तो वह 124 ए के अधीन आता है।

    धारा 153A आईपीसी (IPC Section 153क in Hindi) – धर्म, मूलवंश, भाषा, जन्म-स्थान, निवास-स्थान, इत्यादि के आधारों पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता का संप्रवर्तन और सौहार्द्र बने रहने पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले कार्य करना।