Mirzapur वेब सीरीज के निर्माता और कलाकारों पर अश्लीलता फैलाने का केस दर्ज

0
248
mirzapur web series
mirzapur web series

मुंबई। पहले ही हिंसक कंटेंट से भरपूर मिर्जापुर वेबसीरीज को लेकर सवाल उठते रहे हैं। अब यह नए विवादों में घिर गई। दरअसल, मुंबई विश्व विद्यालय में कानून की पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट ने वेब सीरीज के कंटेंट और यूपी के जिला मिर्जापुर को गलत मंशा से चित्रण करने को लेकर नेशनल ह्यूमन राइट कमीशन में केस दर्ज कराया है। लॉ स्टूडेंट आशीष राय ने आईपीसी की धारा 153ए, 295 और 295ए के तहत और मानव अधिकारों के संरक्षण अधिनियम के तहत निर्माताओं पर मामला दर्ज कराकर कठोर कार्रवाई की मांग की है। छात्र की मांग है कि इसके निर्माताओं पर कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए ताकि वे भविष्य में आने वाले इसके पार्ट-3 को लेकर इस तरह का प्रयास न करें। इससे पहले स्थानीय सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने भी इसे अपने संसदीय क्षेत्र को बदनाम करने वाला बताया था। इसके बाद मिर्जापुर जिले के विधायक रत्नाकर त्रिपाठी भी इसके प्रसारण पर रोक की मांग कर चुके हैं।

इसके अलावा कुछ सामाजिक संगठनों का भी कहना था कि यह जिला आमतौर पर बेहद शांति प्रिय है। इस वेबसीरीज में जिले को जिस तरह से हिंसक और नशे के कारोबार में लिप्त बताया गया है वह बदनाम करने की साजिश है। यहां ऐसी गतिविधियां नहीं होती है। इस सीरीज में मिर्जापुर को एक क्रिमनल जिले के रूप में दिखाया गय है। जहां का हर किरदार की हर बातचीत में गालियां आम है। खून खराबे के दृश्यों से भरपूर इसकी कहानी मुख्य किरदार कालीन भैय्या (पंकज त्रिपाठी) और उनके बेटे मुन्ना त्रिपाठी (दिव्येंदु) के आपराधिक कारनामों के आसपास घुमती है।

गौरतलब है कि मिर्जापुर वेबसीरीज के दोनों भागों को जबरजस्त सफलता मिली थी। इसके फरहान अख्तर निर्मित इस सीरीज में पंकज त्रिपाठी, अली फैजल, दिव्येंदु, रशिका दुग्गल, विक्रांत मैसी कलाकारों ने काम किया था। पहली बार 18 नवंबर 2018 को इसके पहले पार्ट को रिलीज किया गया था। जबकि 22 अक्टूबर 2020 में इसके दूसरे भाग को रिलीज किया गया था।