IFFI 51th Closing Ceremony : द डार्कनेस ने जीता ₹40 लाख का The Golden Peacock Award

0
800
the Darkness
the Darkness

मुंबई। गोवा में आयोजित अंतर्राष्टÑीय फिल्म फेस्टिवल आॅफ इंडिया के 51वें संस्करण में रविवार (24 जनवरी 2021) को पुरस्कारों का ऐलान किया गया है। आज गोवा के तालेगाँव में श्यामा प्रसाद मुखर्जी इंडोर स्टेडियम में आयोजित रंगारंग सांस्कृतिक समापन समारोह में बॉलीवुड अभिनेत्री जीनत अमान और अभिनेता रवि किशन गेस्ट आॅफ आॅनर थे। इस मौके पर वयोवृद्ध अभिनेता, निर्देशक और निर्माता बिस्वजीत चटर्जी को इंडियन पर्सनैलिटी आॅफ द ईयर अवार्ड से सम्मानित किया गया है। गोवा के राज्यपाल श्री भगत सिंह कोशियारी, गोवा के मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत, केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने भी समापन समारोह में शिरकत की है। साथ ही साथ विभिन्न क्षेत्रों के गणमान्य लोगों के साथ जीवन का समापन किया। इसमें सेकंड वर्ल्ड वॉर की पृष्ठभूमि पर आधारित फिल्म ‘द डार्कनेस’ ने गोल्डन पीकॉक अवॉर्ड अपने नाम किया है। 40 लाख रुपए के इस पुरस्कार को फिल्म के डायरेक्टर एंडर्स रिफ और प्रोड्यूसर लेने बोरग्लस के बीच समान रूप से बांटा जाएगा। इस राशि के साथ उन्हें एक प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया जाएगा।

सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार ताइवान के निर्देशक, लेखक और निर्माता चेन-नियेन को को जाता है। उन्हें यह पुरस्कार 2020 में आई उनकी फिल्म ‘द साइलेंट फॉरेस्ट’ के लिए दिया गया है। इसके तहत उन्हें 15 लाख रुपये और प्रमाण पत्र दिया जाएगा।
सिल्वर पीकॉक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (मेल) के लिए 17 वर्षीय त्जु-चुआन लियू को सम्मानित किया गया है।
सिल्वर पीकॉक सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए ‘पोलिश’ की अभिनेत्री जोफिया स्टफीज को दिया गया है। उन्होंने पिओटर डोमवेल्स्की में आई नेवर क्राय / जेक नजदेलज स्टैड में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
आईएफएफआई-51 स्पेशल जूरी अवार्ड-2020 बल्गेरियाई निर्देशक कामिन कालेव को दिया गया है। कालेव को सिल्वर 15 लाख रुपए का प्रमाणपत्र और नकद पुरस्कार दिया गया है।
आईएफएफआई-51 स्पेशल मेंशन अवार्ड भारतीय निर्देशक कृपाल कलिता को उनकी असमिया फिल्म ब्रिज के लिए दिया गया है।
बेस्ट डेब्यू डायरेक्टर का पुरस्कार ब्राजील की निर्देशक कैसियो पेरेरा डॉस सैंटोस को उनकी 2020 पोटुर्गेसी फिल्म वेलेंटिना के लिए दिया गया है।
सर्वश्रेष्ठ डेब्यू निर्देशक का पुरस्कार ब्राजील के निर्देशक कैसियो पेरेरा डॉस सैंटोस को दिया गया है। उनकी 2020 की पोटुर्गेसी फिल्म वैलेंटिना के लिए एक जिसमें एक 17 वर्षीय ट्रांसजेंडर ब्राजील की लड़की की कहानी बताई है, जिसका एकमात्र उद्देश्य उसकी मां के साथ सामान्य नेतृत्व करना है।

प्रतिष्ठित आईसीएफटी यूनेस्को गांधी अवार्ड महात्मा गांधी के आदर्शों को दर्शाने वाली फिल्म को दिया गया है। जिसे अमीन नायफ की 2020 की अरबी फिल्म 200 मीटर’ से सम्मानित किया गया है। पुरस्कार में एक प्रमाण पत्र और एक पदक होता है और इसे आईएफएफआई के सहयोग से इंटरनेशनल काउंसिल फॉर फिल्म, टेलीविजन और आॅडियोविजुअल कम्युनिकेशन (आईसीएफटी) पेरिस के सहयोग से दिया जाता है।

पुरस्कारों का निर्णय आईएफएफआई-51 की अंतर्राष्ट्रीय जूरी ने किया है। जिसमें अर्जेंटीना के निर्देशक पाब्लो सीजर अध्यक्ष है। उनके अलावा दुनिया भर के प्रख्यात फिल्म निर्माता प्रसन्ना विथानगे (श्रीलंका), अबू बक्र शॉकी (आॅस्ट्रिया), प्रियदर्शन (भारत) और रुबैयत हुसैन (बांग्लादेश) जूरी के अन्य सदस्य थे।

रेड कारपेट पर इन हस्तियों ने बढ़ाई शोभा
अंतर्राष्ट्रीय जूरी के सदस्य निदेशक प्रियदर्शन नायर, संचालन समिति के सदस्य शाजी एन. करुण, राहुल रवैल, मंजू बोरा और रवि कोट्टारकारा सहित देश-विदेश की मशहूर हस्तियों ने रेड कारपेट पर चलकर समारोह में भाग लिया।

गोवा के राज्यपाल बोले,‘भारतीया सिनेमा को सलाम करता हूं’
गोवा के राज्यपाल श्री भगत सिंह कोशियारी ने फेस्टिवल के आयोजन के लिए आयोजकों की सराहना करते हुए कहा कि,‘हम असाधारण समय गुजर रहे हैं। ऐसे में सिनेमा न केवल हमारे देश, बल्कि पड़ोसी देशों को भी एकजुट कर रहा है। मैं भारतीय सिनेमा और फिल्म निर्माताओं को सलाम करता हूं। फिल्म महोत्सव हमें यह याद दिलाने का अवसर है कि मतभेदों के बावजूद पूरी दुनिया एक है।’

गौरतलब है कि इस साल अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में 15 फिल्में शामिल थीं, जिनमें से तीन भारतीय फिल्म निमार्ताओं द्वारा बनाई गई हैं। फेस्टिवल कैलीडोस्कोप सेक्शन के तहत आईआईआई ने दुनिया के विभिन्न हिस्सों से चुनी गई 12 फिल्मों का प्रदर्शन किया। विश्व पैनोरमा खंड में 48 फिल्में थीं, जिसमें 21 एशिया प्रीमियर, 16 इंडिया प्रीमियर, 8 वर्ल्ड प्रीमियर और 3 इंटरनेशनल प्रीमियर शामिल थे। डेब्यू फिल्म प्रतियोगिता के तहत आईएफएफआई ने 2 भारतीय फिल्मों सहित 7 फिल्मों का प्रदर्शन किया। दो भारतीय फिल्मों सहित 10 प्रसिद्ध फिल्मों ने आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक के लिए प्रतिस्पर्धा की है।

विटोरियो स्टोराओ को लाइफ टाइम अचीवमेंट
आईएफएफआई 51 ने इतालवी सिनेमाटोग्राफर विटोरियो स्टोराओ को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया है। छायाकार ने कहा कि उनके पास अपने सहयोगियों और बर्नार्डो बतोर्लुसी, फ्रांसिस कोपोला, कार्लोस ओलिवेरा और वुडी एलन जैसे महान निर्देशकों के साथ अविश्वसनीय जर्नी की है।
आईएफएफआई फिल्म फेस्टिवल का 14वां संस्करण एक हाइब्रिड प्रारुप में आयोजित किया गया था, इस बार भी लगभग लॉन्च किया गया था।

इस फेस्टिवल के शुरुआत में प्रसिद्ध फिल्म निर्माता सत्यजीत रे की लोकप्रिय क्लासिक्स दिखाई गए थे। भारतीय सिनेमा के जनक दादासाहेब फाल्के की 150वीं जयंती के अवसर पर उनकी चार फिल्मों की भी स्क्रीनिंग की गई। आईएफएफआई ने 18 फिल्मी हस्तियों को भी श्रद्धांजलि दी जिनका पिछले वर्ष निधन हो गए थे। इसमें इरफान खान, ऋषि कपूर, एस पी बालासुब्रह्मण्यम, सौमित्र चटर्जी, सुशांत सिंह राजपूत और बसु चटर्जी जैसी हस्तियां शामिल थीं।