Salman Khan ने अवैध शिकार मामले में दिया फर्जी हलफनामा, मांगी माफ़ी

0
298
Salman Khan
Salman Khan

मुंबई | 1998 में जोधपुर में दो ब्लैकबक्स के अवैध शिकार से जुड़े एक मामले में सुनवाई के दौरान बॉलीवुड स्टार सलमान खान ने जोधपुर सेशन कोर्ट में 2003 में गलती से गलत हलफनामा पेश करने के लिये माफी मांगी। इस मामले में अंतिम फैसला गुरुवार को सुनाया जाएगा।

सलमान जोधपुर सत्र न्यायालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से काला हिरण शिकार मामले में सजा के खिलाफ उनकी अपील की सुनवाई के लिए पेश हुए। उनके वकील हस्तीमल सारस्वत ने अदालत को बताया कि यह शपथ पत्र गलती से 8 अगस्त, 2003 को अदालत में प्रस्तुत किया गया था, जिसके लिए अभिनेता को माफ़ किया जाना चाहिए।

सुनवाई के दौरान, सारस्वत ने कहा, “शपथपत्र गलती से 8 अगस्त 2003 को दिया गया था, चूँकि सलमान बहुत व्यस्त थे इसलिए भूल गए थे कि उनका लाइसेंस नवीनीकरण के लिए दिया गया था | इसलिए, उन्होंने उल्लेख किया कि लाइसेंस अदालत में गायब हो गया था। “

सलमान को 1998 में जोधपुर के पास कांकाणी गांव में दो ब्लैकबक्स के शिकार के लिए गिरफ्तार किया गया था। उस समय उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था और अदालत ने उनसे आर्म्स लाइसेंस जमा करने को कहा था।
सलमान ने 2003 में कोर्ट में एक हलफनामा दिया, जिसमें कहा गया था कि उन्होंने लाइसेंस खो दिया है । उन्होंने इस सिलसिले में मुंबई के बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर भी दर्ज कराई।

हालांकि, बाद में अदालत को पता चला कि सलमान का आर्म लाइसेंस खोया नहीं था, बल्कि रीन्यू होने के लिए दिया गया था।सरकारी वकील भवानी सिंह भाटी ने तब मांग की थी कि अभिनेता के खिलाफ अदालत को गुमराह करने का मामला दर्ज किया जाना चाहिए।

अक्टूबर 2018 में एक ट्रायल कोर्ट ने सलमान को दोषी ठहराया था और अक्टूबर 1998 में फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान दो काले हिरन को मारने के लिए पांच साल कैद की सजा दी थी। अभिनेता ने कोर्ट सत्र के फैसले को चुनौती दी थी। सलमान के साथी कलाकार सैफ अली खान, तब्बू, नीलम और सोनाली बेंद्रे, जो उनके साथ कांकाणी में मौके पर मौजूद थे, को बरी कर दिया गया है।