OTT, फिल्म, विज्ञापन और रीजनल सिनेमा सहित हर विधा के मास्टर है विपुल शाह

0
122
Vipul Amrat lal Shah

मुंबई। बड़ी स्क्रीन और विजुअल एंटरटेनमेंट प्लेटफॉर्म पर अपनी कहानी सुनाते हुए रचनात्मक रूप से स्वतंत्रता प्राप्त करना हर फिल्म निर्माता का सपना होता है। लेकिन, बहुत कम कहानीकारों को अपने सिनेमाई सफ़र में लगभग हर विजुअल एंटरटेनमेंट मीडियम का पता लगाने का अवसर या प्रतिभा मिलती है। निर्देशक-निर्माता विपुल अमृतलाल शाह (Vipul Amrat Lal Shah) भारतीय मनोरंजन उद्योग के ऐसे ही एक उल्लेखनीय प्रतिभाशाली पर्सनालिटी हैं।

दिलचस्प बात यह है कि विपुल शाह उन कुछ भारतीय निर्देशकों में से एक हैं जिन्होंने थिएटर, रीजनल टेलीविजन, मैनस्ट्रीम टेलीविजन, रीजनल फिल्म, हिंदी फिल्म, विज्ञापन फिल्म और अब ओटीटी में अपना हाथ आजमाया है। थिएटर में भी उन्होंने इंटर-कॉलेज, एक्सपेरिमेंटल थियेटर, कमर्शियल थिएटर और स्ट्रीट प्लेस में सफलतापूर्वक प्रयास किया है।

विपुल ने बीते दिनों को याद करते हुए साझा किया, ‛जब मैंने थिएटर करना शुरू किया तो मेरा कोई फ्यूचर प्लान नहीं था। मैं मोमेंट में रहता हूं और रचनात्मक रूप से उस समय मुझे जो चीज़ एक्साइट करती है, मैं उसके साथ आगे बढ़ता हूं और उसे आकार देता हूं। जब मैं थिएटर कर रहा था, मुझे नहीं पता था कि एक दिन मैं टीवी स्पेस या फिल्मों में प्रवेश करूंगा। लेकिन फिर टीवी आया और मैंने इसे एक नए फॉरमेट के रूप में स्वीकार किया और हमने अहमदाबाद दूरदर्शन के लिए रीजनल टेलीविजन शुरू किया। वहाँ से मैं भारत का पहला डेली सोप ‛एक महल हो सपनो का’ बनाने के लिए आगे बढ़ा, जो 1000 एपिसोड तक चला था। जब मैं यह शो कर रहा था, मुझे मेरी पहली गुजरात फिल्म का ऑफर मिला, जो काफी चुनौतीपूर्ण था क्योंकि इसे 35 मिमी सिनेमास्कोप फॉरमेट और डॉल्बी साउंड में शूट किया गया था।’

विपुल शाह ने बताया कि उसके बाद मुझे अपनी पहली हिंदी फिल्म ‛आंखें’ मिली और हिंदी फिल्म का सफ़र शुरू हो गया। जब मैं फिल्में कर रहा था, मैंने कुछ विज्ञापन फ़िल्में भी कीं और यह अनुभव भी अनोखा था क्योंकि विज्ञापन फिल्मों में फिल्म निर्माताओं की ज़्यादा भूमिका नहीं होती क्योंकि ब्रांड द्वारा मार्केटिंग एजेंसी और क्रिएटिव टीम के साथ ठीक वैसा ही काम किया जाता है जैसा वे चाहते हैं। फिल्म निर्माताओं के रूप में हमें बस आगे बढ़कर उसे वैसे ही आकार देना होता है। कुछ विज्ञापनों पर काम करने के बाद मैंने एक ब्रेक लेने का फैसला किया। और अब मैं ओटीटी कर रहा हूं, जो एक कंपलीट जर्नी की तरह लगती है। डॉक्यूमेंट्री को छोड़कर मैंने व्यावहारिक रूप से मनोरंजन के क्षेत्र में मौजूद सभी संभावित फॉरमेट पर काम किया है। थिएटर में भी मैंने स्ट्रीट थिएटर, एक्सपेरिमेंटल थियेटर, कंपीटिटिव थिएटर, वर्चुअल, म्यूजिकल, नॉन-म्यूजिकल आदि किया है। शायद एक दिन मैं एक डॉक्यूमेंट्री भी बनाना चाहूंगा।’

हाल ही में दो महत्वाकांक्षी और दिलचस्प प्रोजेक्ट्स- मेडिकल थ्रिलर ‘ह्यूमन’ (वेब शो) और ‛सनक’ (मूवी) की घोषणा करने के बाद निर्देशक-निर्माता विपुल अमृतलाल शाह ने अब अपने इन प्रोजेक्ट्स पर काम करना शुरू कर दिया है। जबकि ‛ह्यूमन’ मानव ड्रग परीक्षण और चिकित्सा घोटाले की दुनिया के बारे में एक भावनात्मक नाट्य, वही ‘सनक’ एक इंटेंस, भावनात्मक, एक्शन फिल्म है।

‘ह्यूमन’ में बहुमुखी शेफाली शाह और कीर्ति कुल्हारी मुख्य किरदार में है और जिसकी शूटिंग इस साल जनवरी से शुरू हो गई है। यह वेब श्रृंखला विपुल शाह और मोजेज सिंह द्वारा सह-निर्देशित होगी। ‘सनक’ में विद्युत के साथ चंदन रॉय सान्याल, नेहा धूपिया और रुक्मिणी मैत्रा (जो अपना बॉलीवुड डेब्यू कर रही हैं) नज़र आएंगी। सनशाइन पिक्चर्स के साथ ज़ी स्टूडियोज द्वारा प्रस्तुत, ‛सनक’ विपुल अमृतलाल शाह प्रोडक्शन की फिल्म है, जिसका निर्देशन कनिष्क वर्मा ने किया है।