45 Years of Kabhi-Kabhie : अगर यह फिल्म न होती तो खत्म हो चुका होता राखी करियर, ऐसे मिली इजाजत

0
329
Kabhi Kabhie movie 1976
Kabhi Kabhie movie 1976

BolBolBollywood.com, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड फिल्म ‘कभी कभी’ (Kabhi Kabhie) की रिलीज के आज 45 साल पूरे हो चुके हैं। खूबसूरत संगीत से सजी इस फिल्म को 27 फरवरी 1976 को रिलीज किया गया था। अमिताभ बच्चन, शशि कपूर, राखी, वहीदा रहमान, ऋषि कपूर और नीतू सिंह की इसमें अहम भूमिकाएं हैं। खास बात यह है कि इस फिल्म में अमिताभ के बाबूजी हरिवंश राय बच्चन और मां तेजी कौर बच्चन भी नजर आए थे। वे फिल्म में राखी के माता-पिता बने थे। आप जब राखी और शशि कपूर की शादी वाले सीन को देखेंगे तो उनकी मौजूदगी दिखाई देगी। दरअसल, दोनों की शादी वाले सीन में हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन राखी के माता-पिता बनकर बैठे थे। फिल्म में उन्होंने राखी का कन्यादान भी किया था।

फिल्म का लेखन पामेला चोपड़ा ने किया था। जबकि इसका निर्माण और निर्देशन यश चोपड़ा ने किया था। यह यश चोपड़ा निर्देशित दूसरी फिल्म थी जिसमें अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) और शशि कपूर (Shashi Kapoor)  ने एक साथ काम किया था। इससे पहले वे 1975 की सुपरहिट फिल्म दीवार (Deewar) में काम कर चुके थे।

इस फिल्म के लिए खय्याम को साउंडट्रैक रचनाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीतकार से नवाजा गया था।  जबकि साहिर लुधियानवी ने ‛कभी-कभी मेरे दिल में’ के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पुरस्कार जीता था। 24 वें फिल्मफेयर अवार्ड्स में इस गीत ने मुकेश को सर्वश्रेष्ठ मेल प्लेबैक सिंगर का खिताब दिलाया था। बताया जाता है इस फिल्म ने 40 मिलियन से अधिक की कमाई की थी।

फिल्म का कॉन्सेप्ट यश चोपड़ा के माइंड में तब आया जब वे अपने दोस्त और गीतकार साहिर लुधियानवी की एक कविता पढ़ रहे थे। फिल्म की शूटिंग कश्मीर में हुई थी और यश चोपड़ा ने इसे अपने सबसे सुखद अनुभवों में से एक होना बताया था। खास बात यह थी इसमें अमिताभ बच्चन ने एक ऐसे रोमांटिक कवि का किरदार निभाया जो अपने प्यार को खो देता है। जबकि इससे पहले वे जंजीर (1973) और दीवार (1975) जैसी सुपरहिट फिल्मों से एग्री यंग मैन की छवि निर्मित कर चुके थे। बावजूद वे दर्शकों को प्रभावित करने में सफल रहे।

यही नहीं यह फिल्म अभिनेत्री राखी (Rakhee) को ध्यान में रखते हुए लिखी गई थी और वह दाग: ए पोएम ऑफ लव (Daag: A Poem of Love 1973) में काम के दौरान इसे करने के लिए राजी हो गई थी। लेकिन, फिल्म का निर्माण शुरू होने से पहले उन्होंने गीतकार गुलजार (Gulzaar) से शादी कर ली। और गुलजार चाहते थे कि राखी अभिनय से संन्यास ले लें। हालांकि, यश चोपड़ा की रिक्वेस्ट के बाद गुलजार ने उन्हें फिल्म करने की इजाजत दे दी।