मुंबई की सड़कों पर फिर दौड़ेगी Victoria, बॉलीवुड से है पुराना रिश्ता

0
223
Victoria
Victoria

विक्टोरिया का इतिहास ना केवल काफी पुराना है बल्कि बॉलीवुड से इसका काफी पुराना और गहरा रिश्ता रहा है|मुंबई की सड़कों पर एक बार फिर victoria दौड़ने के लिए तैयार है,हालाँकि पुराने दौर की तरह अब यह विक्टोरिया घोड़ा बग्घी ना होकर बैटरी ओपरेटेड इकोफ्रेंडली विक्टोरिया है |

मुंबई | मुंबई की सड़कों पर एक बार फिर victoria दौड़ने के लिए तैयार है और रविवार को महाराष्ट्र के चीफ मिनिस्टर उद्धव ठाकरे ने इसका उद्घाटन किया |हालाँकि पुराने दौर की तरह अब यह विक्टोरिया घोड़ा बग्घी ना होकर बैटरी ओपरेटेड इकोफ्रेंडली विक्टोरिया है |क्या आप जानते हैं इस विक्टोरिया का इतिहास ना केवल काफी पुराना है बल्कि बॉलीवुड से इसका काफी पुराना और गहरा रिश्ता रहा है |विक्टोरिया का नाम आते ही ऐसी कई फिल्मे हैं जिनकी याद जेहन में ताजा हो जाती है |

नया दौर (Naya Daur -1957 ) : आजादी के बाद के भारत में औद्योगिकीकरण धीरे-धीरे अपनी पैठ बना रहा था तबके दौर में सेट की गयी बीआर चोपड़ा की यह फिल्म उन तांगेवालों पर केंद्रित है जो जीवन यापन करने के लिए लोगों को सवारी करवाते थे | जब एक अमीर जमींदार का बेटा (जीवन) एक बस सेवा शुरू करता है तो उनकी आजीविका खतरे में पड़ जाती है। दिलीप कुमार ने एक ऐसे तांगावाले की भूमिका निभाई, जो जीवन की बस के साथ अपनी घोड़ा गाड़ी चलाने की चुनौती लेता है। संगीत निर्देशक ओपी नैय्यर की सर्वश्रेष्ठ रचनाओं में शुमार इस फिल्म में रोमांटिक नंबर मांग के साथ तुम्हारा भी इस हॉर्स विक्टोरिया में फिल्माया गया है |

Naya Daur

विक्टोरिया नंबर 203 (Victoria No. 203 – 1973) : विक्टोरिया की बात करते ही इस फिल्म का जिक्र होना तो लाज़मी है |यह पूरी फिल्म ही घोड़ा गाड़ी के आसपास केंद्रित थी जिसका शीर्षक था विक्टोरिया नंबर 203| फिल्म में सायरा बानो और नवीन निश्चल की मुख्य भूमिका थी। इस 70 के दशक की थ्रिलर में एक अमीर आदमी कुछ हीरे चुराता है, लेकिन लूट के साथ ही उसका वफादार देशद्रोही हो जाता है। जब उसे मार दिया जाता है तो विक्टोरिया चालक को इस अपराध के लिए सजा सुनाई जाती है क्योंकि वह मृत व्यक्ति के साथ देखा गया अंतिम व्यक्ति था। हीरे की तलाश में दो बदमाश राजा (अशोक कुमार) और राणा (प्राण) हैं। वे टांगा चालक की बेटी रेखा (सायरा बानो) की मदद करते हैं जो अपने पिता की बेगुनाही साबित करना चाहती है। अमीर आदमी का बेटा कुमार (नवीन निश्चल), जो उसके प्यार में पड़ गया, वह भी उनके मिशन में शामिल हो जाता है। निर्देशक बृज के बेटे कमल सदाना ने 2007 में इस फिल्म की रीमेक का भी निर्माण किया था मगर यह फिल्म ओरिजिनल की तरह कमाल नहीं कर पायी | फिल्म का गाना देखा मैंने देखा (Kishore Kumar)भी काफी फैमस हुआ था जिसमे सायरा बानो एक लड़के के भेष बदलकर विक्टोरिया चलती नज़र आ रही हैं |

Victoria No. 203

शोले (Sholay -1975) : रमेश सिप्पी की एक क्लासिक फिल्म में बसंती के किरदार में हेमा मालिनी हॉर्स विक्टोरिया चलाते हुए काफी फैमस हो गयी थी | ठाकुर बलदेव सिंह, डकैत गब्बर सिंह से बदला लेने के लिए, दो बदमाशों, जय और वीरू की मदद से आगे बड़ते हैं और इस फिल्म का गाने “कोई हसीना जब रूठ जाती है तो” में धर्मेन्द्र हेमा मालिनी का बग्घी पर रोमांस बहुत ज्यादा फैमस हुआ था |

Sholay

मर्द (Mard -1985) यह मनमोहन देसाई के लॉस्ट एंड फाउंड कांसेप्ट पर आधारित एक फिल्म थी जिसमे ‘खोया-पाया’ का फार्मूला ब्रिटिश राज के तहत 20 वीं सदी के भारत में शुरू हुआ। अमिताभ बच्चन के किरदार राजू तांगेवाला को मेयर हैरी की बेटी रूबी (अमृता सिंह) से प्यार हो जाता है, । राजू, राजा आजाद सिंह (दारा सिंह) का बेटा है, जो अपने प्रांत में अंग्रेजों से लड़ने के लिए लालायित है। फिल्म के गानों को तांगों पर फिल्माया गया है |

सी आई डी (C.I.D.- 1956 ) : गुरुदत्त द्वारा निर्देशित क्लासिक में जॉनी वॉकर है और वह फिल्म में बॉम्बे में सावधान रहने की बात करते हैं क्योंकि फिल्म में वह तांगे पर सवार होकर कहते हैं ” ऐ दिल है मुश्किल में जीना यहाँ ,जरा हट के ज़रा बच के, ये हैं बम्बई मेरी जान ..”

C.I.D.

तुमसा नहीं देखा (Tumsa Nahin Dekha 1957) : फिल्म में चुलबुले शम्मी कपूर अमिता को आकर्षित करने की कोशिश करते है, फिल्म के गाने में शम्मी कपूर तांगे में बैठ कर गाते हैं यूँ तो हमने लाख हसीं देखे हैं तुमसा नहीं देखा ” |

हावड़ा ब्रिज (Howrah bridge – 1958) ऐ मेहरबान, मधुबाला की इस सस्पेंस थ्रिलर का ना केवल एक लोकप्रिय गीत है, बल्कि ये क्या करे डाला धुन भी काफी यादगार है। फिल्म में अशोक कुमार अपने भाई के हत्यारे और खोए हुए परिवार के वारिस की तलाश कर रहे एक व्यक्ति की भूमिका निभाते है, और उसकी खोज में नर्तकी एडना (मधुबाला) द्वारा सहायता प्राप्त करता है।

Howrah Bridge

सावन की घटा (Saawan Ki Ghata 1966 ) इस समय तक Victoria तांगा पिछले दशक की तुलना में कम आम हो गए थे जब शर्मिला टैगोर ने होले हौले साजना ,धीरे धीरे बालमा गाया था और मनोज कुमार कार्टलोड चलाते नज़र आये थे |

Sawan Ki Ghata

Andaaz Apna Apna (1994) : इस फिल्म में भी आमिर ऐ लो जी सनम हम आ गए,आज फिर दिल लेके गाते हुए घोड़ा बग्घी पर अपने प्यार का इज़हार करते नज़र आये थे |

Andaaz Apna Apna

इतना ही नहीं इसके अलावा अमर ,अकबर, एंथोनी , हम-तुम ,दीदार (नरगिस-दिलीप कुमार ) जैसी कई फिल्मों के गाने Victoria पर फिल्माए गाये हैं और इन गानों फिल्मों ने विक्टोरिया से बॉलीवुड का अटूट नाता जोड़ दिया है |