Jagdeep Birth Anniversary :  छोटे से किरदार में किया ऐसा जादू, सूरमा भोपाली को अब तक नहीं भूल पाए लोग

0
62
Jagdeep Birth Anniversary
Jagdeep Birth Anniversary

BolBolBollywood.com, स्पेशल, स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड इंडस्ट्री के लंबे इतिहास में ऐसे गिने-चुने फनकार होते हैं जिनके किरदार मिसाल बन जाते है। वे अपनी अदाकारी का इस फानी दुनिया में ऐसा जलवा बिखेर जाते हैं कि उनके न होने के सालों बाद भी उनके किरदारों को पूरी शिद्दत से याद किया जाता है। बदलते वक्त के साथ उनके किरदार द्वारा बोले गए संवाद समाज की बोलचाल का हिस्सा हो चुके होते हैं। ऐसे ही इंडस्ट्री में एक दिग्गज अभिनेता हुए हैं। नाम है जगदीप (Jagdeep)। आज उनका जिक्र इसलिए हो रहा है क्योंकि उनका 29 मार्च को बर्थडे सेलिब्रेट किया जाता है। मध्यप्रदेश के दतिया में साल 1939 में जन्में अभिनेता जगदीप ने शोले से पहले दिल्ली दूर नहीं, मुन्ना, आर-पार, दो बीघा, भाभी, बरखा और बिंदिया जैसी यादगार फिल्मों में काम किया है।

शोले फिल्म में जगदीप का किरदार सूरमा भोपाली (Soorma Bhopali) को भले ही स्क्रीन पर बहुत कम जगह मिली हो लेकिन उन्होंने इसके संवाद में वह जादू फूंका की वे आज भी देश के कोने-कोने में दोहराए जाते देखे जा सकते हैं। जगदीप ने साल 1951 में आई फिल्म ‛अफसाना’ (Afsaana) से बतौर बाल कलाकार अपने अभिनय करियर की शुरुआत की थी। इस फिल्म को इंडस्ट्री के दिग्गज निर्माता-निर्देशक बी आर चोपड़ा ने निर्देशित किया था। खास बात यह है कि कम ही लोग जानते है कि उनका असली नाम सैयद इश्तियाक जाफरी (Saiyyad Ishtiyak Zafri) था।

बचपन से अभिनय के शौकीन जगदीप (Jagdeep) ने खुद बताया था कि फिल्म अफसना में काम करने के लिए उन्हें ₹3 रुपए मिले थे। इसके बाद जगदीप (Jagdeep Birth Anniversary) ने अपने फिल्मी करयिर में 400 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया। बीते साल 8 जुलाई को हिंदी सिनेमा के इस सितारे मे दुनिया को अलविदा कह दिया था, जिसके बाद 9 जुलाई 2020 को उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया है।