50 Years : ऐसी हुई थी Salim की Javed से मुलाकात, इनकी लिखी 24 में से 20 Movie थी हिट

0
67
Salim Javed
Salim Javed

BolBolBollywood, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। बात 70 के दशक की हो और उनमें मशहूर जोड़ी सलीम-जावेद (Salim Javed) का जिक्र न हो ऐसा संभव नहीं है। यह बॉलीवुड की पहली राइटर जोड़ी है जिसे स्टार होने का रूतबा हासिल है। दरअसल, अब 1971 में शुरू हुई इस जोड़ी (Salim Javed) के अब 50 साल पूरे हो चुके हैं। सलीम और जावेद ने 24 फिल्मों की स्क्रिप्ट लिखी जिनमें से 20 सफल थी। जबकि 2 अन्य भाषाओं की फिल्मों में काम किया।

आखिरकार यह जोड़ी टूट गई। कैसे टूटी, क्यों टूटी इस बारे में एक बार खुद सलीम खान (Salim Khan) ने बताया था। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा कि जब जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने उनसे अलग होने की बात कही तो वे चौंक गए थे। लेकिन, जैसे कि हर चीज़ की एक एक्सपायरी डेट होती है। उसी तरह हमारे साथ कि भी एक एक्सपायरी थी। सलीम ने कहा कि एक दिन हम काम कर रहे थी। तभी जावेद आए और कहा कि मैं अलग होना चाहता हूं। यह सुनकर मैंने जावेद से पूछा कि क्या यह विचार 5 मिनट में आया है। शायद नहीं। तो जावेद ने कहा कि वह बीते एक दशक से सोच रहा है। बस फिर क्या था। मैं अपने घर की तरफ निकल पड़ा तो वह मुझे छोड़ने के लिए बाहर तक आने लगे तो मैंने मना कर दिया और कहा कि मैं खुद को संभाल सकता हूं।

सरहदी का लुटेरा और दोस्ती का साथ
सलीम जावेद की जोड़ी की सफलताओं की तो कई कहानियां बिखरी पड़ी है लेकिन मध्यप्रदेश के रहवासी ये दोनों सख्शियत कैसे मुंबई जाकर एक-दूसरे का पर्याय बन गए। वे कहां मिले और कैसे उनकी यह मुलाकात दोस्ती में तब्दील हो गई। यह भी कम रोचक नहीं हैं। दरअसल, फिल्म ‘सरहदी लुटेरा (Sarahdi Lootera) बन रही थी। जिसमें सलीम खान बतौर लीड एक्टर काम कर रहे थे। जबकि, जावेद अख्तर (Javed Akhtar) उस फिल्म को असिस्ट कर रहे थे। यहीं इन दोनों की पहली मुलाकात हुई थी।यह मुलाकात वक़्त के साथ दोस्ती में तब्दील हो गई और आगे चलकर उन्होंने पार्टनरशिप में काम करना शुरू कर दिया। यह साथ करीब 12 साल रहा। इस दौरान उन्होंने एक से बढ़कर एक फिल्में दी। जिनमें ‘सीता और गीता’, ‘हाथी मेरे साथी’, ‘यादों की बारात’, ‘जंजीर’, ‘हाथ की सफाई’, ‘दीवार’, ‘शोले’, ‘क्रांति’, ‘त्रिशूल’, ‘जमाना’, ‘मिस्टर इंडिया’ जैसे ब्लॉकबस्टर मूवी शामिल है।

बॉलीवुड इंडस्ट्री की हिंदी फिल्मों के जरिए सलीम-जावेद (Salim Javed) ने न सिर्फ नाम कमाया बल्कि दूसरे स्क्रिप्ट राइटर्स को भी पहचान दिलाई। इनसे पहले राइटर्स के नाम स्क्रीन पर ऐसे नहीं आते थे। इंडिया में स्क्रीनप्ले लिखने की अलग शुरुआत भी सलीम-जावेद ने ही की थी।