Divyendu : मैंने हर सहकलाकार से सीखा है कुछ नया

0
61
Divyendu
Divyendu

मुंबई | महामारी के समय में, लोगों को आत्मनिरीक्षण करने के लिए काफी समय मिल रहा हैं। ऐसे में अभिनेता Divyendu को भी बॉलीवुड में अपने सहकर्मियों से सीखी गयी सब सीखे याद आ रही है | वर्ष 2007 में आजा नचले के साथ बॉलीवुड में पदार्पण करने वाले अभिनेता ने प्यार का पंचनामा (2011), चश्मे बद्दूर (2013), टॉयलेट: एक प्रेम कथा (2017), बत्ती गुल मीटर चालु, जैसी फिल्मों में दिलचस्प भूमिकाएँ कीं।

अब हाल ही में उन्होंने बताया कि अपने काम के दौरान उन्होंने अक्सर अभिषे कुछ ना कुछ सीखा है | डेविड धवन जैसे निर्देशक के साथ काम करने के बारे में बात करते हुए, जिनके साथ उन्होंने चश्मे बद्दूर में काम किया, उन्होंने कहा, “एक फिल्म स्कूल में अपनी पढ़ाई खत्म करने के बाद और फिर डेविड धवन के साथ थिएटर करना एक अलग अनुभव था, जिस तरह की फिल्में वह बनाते है, यह बहुत अलग तरीके से काम करती है। मुझे यह आकर्षक लगा। जब आप डेविड सर जैसे किसी व्यक्ति के साथ काम करते हैं, तो आप समझ जाइए कि यह पागलपन की तरह है। वह सही मायने में सिनेमा की भाषा समझते है।”

यह भी पढ़े – https://bolbolbollywood.com/?s=Kangana Ranaut के साथ कभी काम नहीं करेंगे डिजाइनर आनंद भूषण, यह है वजह

दिव्येंदु को टॉयलेट: एक प्रेम कथा में अक्षय कुमार के साथ काम करने का मौका मिला। दिव्येंदु ने अक्षय के साथ जो सबक सीखा, उसके बारे में बताते हुए उन्होंने कहा “अक्षय सर जैसे किसी वरिष्ठ के साथ काम करते हुए , सबसे पहली बात जो मैंने सीखी वह थी अनुशासन। मुझे हमेशा समय पर होने का महत्व सीखने को मिला। अपने काम को पसंद करना महत्वपूर्ण है | केवल 8 घंटे ही होते है जब आप सेट पर व्यस्त होंगे और फिर आप अपने जीवन में व्यस्त हो जाएंगे ,इसलिए अनुशासित होकर काम करना बहुत जरुरी है | ”

बातचीत में, उन्होंने अपने चश्मे बद्दूर के सह-कलाकार ऋषि कपूर के बारे में भी कहा, “उन्हें मेरा अभिनय कौशल पसंद आया और हम अभिनय के बारे में हमारे तरीकों के बारे में चर्चा करते थे ।”

इस बीच Divyendu वर्तमान में मिर्जापुर सीजन 2 की सफलता के बाद काफी प्रशंसा बटोरी है जो पिछले साल अक्टूबर में रिलीज़ हुई थी