Khuda Gawah 29 Years: डर की वजह से Sridevi शूट करने नहीं गई अफगान

0
155
Khuda Gawah 1992
Khuda Gawah 1992

BolBolBollywood, Special स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड के मेगा स्टार अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) की मेगास्टार की छवि गढ़ने में जिन फिल्मों का योगदान सबसे ज्यादा हैं उनमें से एक का नाम खुदा गवाह (Khuda Gawah) है। यह फिल्म 8 मई 1992 को रिलीज की गई थी। मुकुल आनंद द्वारा निर्देशित फिल्म में बिग बी के अलावा श्रीदेवी, नागार्जुन, शिल्पा शिरोड़कर और डैनी की प्रमुख भूमिकाएं है। खास बात यह है कि अमिताभ बच्चन और श्रीदेवी की यह तीसरी फिल्म (Khuda Gawah) थी, जिसमें उन्होंने साथ काम किया था। कहा जाता है कि फिल्म के आर्ट डायरेक्टर सुरेश सांवत ने इस फिल्म का सेट तैयार करने के लिए सामान चोर बाजार से परचेस किया था। फिल्म ने 38वें फिल्म फेयर अवॉर्ड में तीन पुरस्कार बेस्ट डायरेक्टर (मुकुल एस आनंद), बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर (डैनी डेन्जोंग्पा), बेस्ट साउंड (भगत सिंह राठौर और कुलदीप सूद) मिले थे।

अफगान से बुलाए थे म्यूजिक कलाकार
लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत से सजी फिल्म Khuda Gawah में 8 सॉन्ग है। जिन्हें कविता कृष्ण मूर्ति, अलका याग्निक, मोहम्मद अजीज, सुरेश वाडेकर, अमिताभ बच्चन और लता मंगेशकर की आवाजों से सजाया गया था। फिल्म को लेकर तथ्यय यह भी है कि पहले इसमें संजय दत्त को लिया जाना तय था, लेकिन कुछ कलेश के चलते संजय दत्त को नागार्जुन से रिप्लेस कर दिया गया। यही नहीं फिल्म के म्यूजिक में अफगानी टच देने के लिए खासतौर से वहां के कलाकारों को मेहबूब स्टूडियो में बुलाया गया था।

सरकार और मुजाहिद्दीन में चल रही थी जंग
खुदा गवाह (Khuda Gawah) फिल्म में सबसे बेहतरीन सीन श्रीदेवी के उन सीन को माना गया है जिनमें उन्हें अफगानिस्तान में रहते हुए दिखाया गया था। लेकिन, तब वहां की सरकार और मुजाहिद्दीन में जंग चल रही थी। इस वजह से उन्होंने वहां जाकर शूटिंग करने से इंकार कर दिया। नतीजन फिल्म में उनके दृश्यों को नेपाल, राजस्थान और मुंबई में फिल्माए गए थे।

एयरफोर्स के साए में हुई थी 18 दिन शूटिंग
हालांकि, यह बात और है कि फिल्म का क्रू जब वहां शूटिंग करने पहुंचा तो अफगानिस्तान के राष्ट्रपति मोहम्मद नजीबुल्लाह ने जो की अमिताभ बच्चन के बड़े प्रसंशक थे, उन्होंने 1991 में 18 दिनों की शूटिंग के लिए एयर फोर्स की सुरक्षा मुहैया कराई थी। यह फिल्म इंडिया में साल 1992 की दूसरी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म साबित हुई। जबकि अफगानिस्तान में सबसे ज्यादा देखी जानी वाली फिल्मों में से एक है।

अमिताभ ने Sridevi को ऐसे मनाया था
अमिताभ बच्चन चाहते थे कि उनके अपोजिट फिल्म में श्रीदेवी को लिया जाए। लेकिन डायरेक्टर मुकुल आनंद जानते थे कि उस टॉप की एक्ट्रेस में गिनीं जाने वाली श्रीदेवी इसके आसानी से राजी नहीं होगी। ऐसे में अमिताभ बच्चन ने उन्हें राजी करने के लिए एक अनूठा तरीका आजमाया। वह यह था कि उन्होंने श्रीदेवी के लिए अपनी रिक्वेस्ट के साथ गुलाबों से भरा एक ट्रक भेज दिया। बस फिर क्या था सरोज खान के साथ सॉन्ग शूट कर श्रीदेवी इससे अच्छी खासी इंप्रेस हुई और उन्होंने झट से इसके लिए हां कर दी। हालांकि इससे पहले वह अमिताभ के साथ ‘इंकलाब’ और ‘आखिरी रास्ता’ में काम कर चुकी थीं।

खुदा गवाह और एक करोड़ का ट्रेंड
90 के दशक की यह पहली फिल्म थी जिसने एक करोड़ रुपए का ट्रेंड शुरू किया था। सबसे पहले तो इस फिल्म का म्यूजिक टिप्स कंपनी (Tips Company) ने एक करोड़ रुपए में खरीदा था। जबकि यह तो सब जानते ही है कि श्रीदेवी 90 के दशक में एक करोड़ रुपए की फीस लिया करती थी। यही नहीं बॉम्बे सर्किट में इस फिल्म को एक करोड़ में बेचने की बात सामने आई थी। हालांकि बाद में पता चाल कि यह 96 लाख रुपए में डील हुई थी। फिर यह सबसे हाइएस्ट थी।

गेटी थियेटर में हुआ था मुहूर्त
इस फिल्म का मुहूर्त गेटी थियेटर में हुआ था और फिल्म की शूटिंग कंप्लीट होने के बाद आॅडियो रिलीज जुहू के सेंटर होटल में हुआ। जबकि फिल्म का प्रीमियर मुंबई के प्रमुख थिएटर मराठा मंदिर होना बताया जाता है।