10 मई 1974 : जया भादुड़ी की 2 फिल्में ‘Kora Kagaz’ और ‘Naya Din Nai Raat’ एक साथ हुई थी Release

0
172
Jaya Bhaduri
Jaya Bhaduri 2 movie Naya Din Nai Raat and Kora Kagaz was released on 10 may 1974

BolBolBollywood, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। 10 मई 1974 का दिन जया भादुड़ी (Jaya Bhaduri) के करियर के लिहाज से सबसे अहम दिन था। इस दिन जया की दो फिल्में एक साथ रिलीज हुई है। हालांकि, बॉलीवुड इंडस्ट्री का इतिहास रहा है कि ऐसा कम ही होता है कि किसी कलाकार की दो फिल्मों को एक साथ रिलीज किया। लेकिन, ऐसा जया भादुड़ी (Jaya Bhaduri) के साथ हुआ है। उनकी फिल्में ‘कोरा कागज’ और ‘नया दिन नई रात’ ‘Naya Din Nai Raat’ एक साथ ही रिलीज हुई थी। ‘कोरा कागज’ 1963 में आई बंगाली फिल्म ‘सात पाके बंधा’ का रिमेक थी। जिसका निर्देशन अनिल गांगूली ने किया था। निर्माण सनथ कोठारी ने किया। जबकि स्टार कास्ट की बात की जाए तो इसमें जया भादुड़ी क अलावा विजय आनंद, एके हंगल, अचला सचदेव और देवेन वर्मा जैसे कलाकारों की अहम भूमिका थी।

मेरा जीवन कोरा कागज रह गया…
इस फिल्म का एक सॉन्ग ‘मेरा जीवन कोरा कागज’ सबसे ज्यादा पॉपुलर हुआ था। यह आज भी सदाबहार नगमों की शान है। जिसे किशोर कुमार ने आवाजें दी थी। इसके अलावा लता मंगेशकर के गाए दोनों अन्य गाने ‘मेरा पढ़ने में नहीं लागे मन’ और ‘रूठे-रूठे पिया’ को भी जबरजस्त लोकप्रियता हासिल हुई थी। इस फिल्म को 22वें नेशनल फिल्म अवॉर्ड में दो अवॉर्ड से नवाजा गया था। इनमें पहला अवॉर्ड तो बेस्ट पॉपुलर फिल्म के लिए डायरेक्टर अनिल गांगूली और बेस्ट प्लबैक सिंगर के अवॉर्ड से लता मंगेशकर को नवाजा गया था। इसके अलाव फिल्म को चार नॉमिनेशन मिले थे। जिनमें बेस्ट फिल्म, बेस्ट डायरेक्टर, बेस्ट स्टोरी और बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर का नॉमिनेशन मिला था। लेकिन, हैरानी की बात यह है कि इस फिल्म का कालजयी गाना ‘मेरा जीवन कोरा कागज’ सुपरहिट रहा लेकिन इसकी जगह लता मंगेशकर को अवॉर्ड से नवाजा गया था।

तमिल फिल्म ‘नवरात्रि’ का हिन्दी रिमेक ‘नया दिन नई रात’
दूसरी, फिल्म का ‘नया दिन नई रात’ (Naya Din Nai Raat) भी 10 मई 1974 को ही रिलीज की गई थी। यह फिल्म 1964 की तमिल फिल्म नवरात्रि का रीमेक है, जिसमें शिवाजी गणेशन की भूमिका थी। इस फिल्म ने संजीव कुमार (Sanjeev Kumar) की प्रतिष्ठा को बढ़ाया था। फिल्म को ए भीम सिंह द्वारा निर्देशित किया गया था। जबकि लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल के संगीत से सजी ‘नया दिन-नई रात’ में पहले संजीव कुमार की भूमिका पहले दिलीप कुमार को आॅफर की गई थी। लेकिन, उन्होंने संजीव कुमार का सुझाव दिया जिसे मान लिया गया।