Saaransh के पूरे हो गए 37 साल, भावुक Anupan Kher ने शेयर की क्रेडिट लाइन

0
73
Saaransh Movie 1984
Saaransh Movie 1984

BolBolBollywood, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर (Anupam Kher) ने बॉलीवुड इंडस्ट्री ने 37 साल पूर कर लिए है। उनकी पहली फिल्म ‘सारांश’ (Saaransh 1984) 25 मई 1984 को रिलीज की गई थी। इस फिल्म में अनुपम के अभिनय को न केवल इंडिया में बल्कि विदेशों में भी जमकर वाहवाही मिली थी। इसी के चलते फिल्म (Saaransh 1984) को अगले साल 1985 में एकेडमी अवॉर्ड में बेस्ट फॉरेन लैग्वेज के लिए चुना गया था। लेकिन, दुर्भाग्य से फिल्म यह अवॉर्ड हासिल करने में चूक गई। ताराचंद बड़जात्या द्वारा निर्मित की गई फिल्म को महेश भट्ट ने निर्देशित किया था। जबकि फीमेल लीड किरदार रोहिणी हट्टानगढ़ी ने निभाया था।

रियल घटनाओं पर आधारित थी कहानी
खास बात यह है कि फिल्म की कहानी महेश भट्ट के आध्यात्मिक गुरु यूजी कृष्णमूर्ति के एक युवा बेटे की कैंसर से मृत्यु और एक महाराष्ट्रीयन दंपत्ति के इकलौते बेटे की न्यूयॉर्क में हत्या से पे्ररित बताई जातीर है। जब फिल्म के लिए स्टार कास्ट की तलाश की जा रही थी तब अनुपम खेर को मुख्य भूमिका निभाने के लिए चुना गया था। हालांकि बाद में परिस्थियों ने तेजी से बदलना शुरू किया और राजश्री प्रोडक्शंस ने इस भूमिका के लिए एक पहले से इंडस्ट्री में स्थापित अभिनेता संजीव कुमार को लेने पर जोर दिया।

…और बैग पैक कर छोड़ दिया था शहर
बहरहाल, फिल्म (Saaransh 1984) को लेकर महीनों से तैयार कर रहे अभिनेता अनुपम खेर को जब डायरेक्टर महेश भट्ट से बदलाव को लेकर खबर मिली तो वे काफी निराश हो गए थे। अंतत: उन्होंने अपना बैग पैक किया और शहर छोड़ कर निकल गए। हालांकि, जाने से पहले उन्होंने भट्ट से मुलाकात की और अपनी निराशा व्यक्त की। इस मुलाकात में अनुपम खेर अपने डायरेक्टर पर गहरा असर छोड़ने में कामयाब हो गए। नतीजन उन्हें मुख्य भूमिका में रखने के निर्णय निर्माता को सहमत होना पड़ा।

जब वे 28 के थे तब निभाया था रिटायर्ड जिद्दी बूढ़े का किरदार
फिल्म 1 जनवरी 1984 को खेर द्वारा निभाए गए प्रधान के पहले दृश्य के साथ शुरू हुई, जिसमें न्यूयॉर्क से फोन आया। खेर केवल 28 वर्ष के थे, जब उन्होंने एक रिटायर्ड जिद्दी बूढ़े व्यक्ति की भूमिका निभाई। निर्णायक दृश्य के लिए, जहां उन्हें अपने बेटे की अस्थियों को हासिल करने के लिए कस्टम अधिकारियों के साथ संघर्ष करना पड़ता है। खेर के पास ऐसी स्थिति का कोई अनुभव नहीं था। बहरहाल, यह दृश्य फिल्म सिटी मुंबई में शूट किया गया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस दृश्य को शूट करने से पहले अनुपम खेर ने न तो कोई रिहर्सल की और नहीं ग्लिसरीन का उपयोग किया। बावजूद इसके उन्होंने एक ही टेक में सीन पूरा कर दिया। यही नहीं इसी दृश्य की बदौलत उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार हासिल हुआ था।

विश्वास नहीं हो रहा कल 37 साल पूरे कर लूंगा
बहरहाल, फिल्म के 37 साल पूरे होने के एक दिन पहले 24 मई 2021 को अनुपम खेर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर फिल्म की क्रेडिट लाइन का वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो के कैप्शन में अनुपम खेर लिखते हैं कि, ‘आज भी जब मैं अपनी पहली फिल्म ‘सारांश’ के ओपनिंग टाइटल में अपना नाम ‘अनुपम खेर’ के परिचय के रूप में देखता हूं तो मैं भावुक हो जाता हूं। विश्वास नहीं हो रहा है कि कल, 25 तारीख को मैं सिनेमा में 37 साल पूरे कर लूंगा। भगवान वास्तव में दयालु हैं। फिल्मों में एंट्री के मेरे 37वें जन्मदिन का एक दिन बाकी है।’