Corona Curfew में बेवजह घूमते मिले Tiger shroff और Disha Patani, मुकदमा दर्ज

0
52
FIR on Tiger Shroff and Disha
FIR on Tiger Shroff and Disha

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता टाइगर श्रॉफ (Tiger shroff) और दिशा पाटनी (Disha Patani) के खिलाफ बेवजह घूमने के चलते मुंबई पुलिस ने एफआईआर (FIR) दर्ज की है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जब पुलिस ने उनसे बाहर घूमने का कारण जानना चाहा तो वे कोई संतोष जनक जवाब नहीं दे पाए। इसके बाद उन आईपीसी की धारा-188 के तहत केस (FIR) दर्ज कर लिया गया।

नहीं बता पाए बाहर क्यों घूम रहे हैं?
दरअसल, कोरोना संक्रमण (Corona Virus) की दूसरी लहर की चैन तोड़ने के लिए राज्य सरकार ने पाबंदियां लागू की है। जिसके तहत किसी भी नागरिक को आवश्यक सेवाओं के लिए ही बाहर निकलने की परमिशन होगी। वह भी निर्धारित समय सुबह 7 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच। इसके बाद कोई भी अनावश्य घूमता पाया गया तो उस पर कार्रवाई की जा रहीहै। दरअसल, पुलिस टीम ने टाइगर श्रॉफ को शाम को बैंड स्टैंड इलाके में घूमते हुए देखा था। इसके बाद उन्हें रोककर जब उससे पूछताछ की गई, तो वे कोई ठोस कारण बता नहीं सके कि वे बाहर क्यों घूम रहे हैं।

सही है या गलत आपका क्या कहना है: विरल वियानी
इस बीच टाइगर श्रॉफ के खिलाफ मुंबई पुलिस में दर्ज हुए केस के बाद सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर चर्चा शुरू हो गई। इसकी जानकारी देते हुए सेलिब्रिटी फोटोग्राफर विरल भयानी ने एक पोस्ट शेयर की थी। जिसमें उन्होंने लिखा- ‘एक्टर टाइगर श्रॉफ और दिशा पाटनी मंगलवार को ड्राइव के लिए निकले थे, जब पुलिस ने उन्हें रोक दिया। दोनों कथित तौर पर जिम से घर वापस आ रहे थे जब यह घटना हुई।’ विरल ने अपनी पोस्ट में आगे लिखा था कि, ‘कोरोना लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन को लेकर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। ये सही है या गलत आपका क्या कहना है।’

ऐसे समय में घूमने में किसी को दिलचस्पी नहीं: आयशा श्रॉफ
इस पोस्ट के बाद टाइगर श्राफ की मां आयशा श्रॉफ नाराज हो गई और उन्होंने कमेंट करते हुए लिखा है कि, ‘अपने तथ्यों को चेक करें डियर। वे घर जा रहे थे और रास्ते में पुलिस आधार कार्ड चेक कर रही थी। ऐसे समय में घूमने में किसी को दिलचस्पी नहीं है। कृपया ऐसी बातें कहने से पहले अपने तथ्या ठीक से जान लें। धन्यवाद।’ बहरहाल, इस मसले पर सोशल मीडिया काफी बहस चल रही है। एक तरफ तो कुछ यूजर्स का कहना है कि पुलिस ने उन्हें बेवजह परेशान किया है जबकि दूसरी तरफ कुछ लोगों का तर्क है कि उन पर की गई कार्रवाई बिल्कुल सही है।