Ek Duuje Ke Liye : कमल हासन और रति की पहली हिन्दी फिल्म ने मचा दी थी धूम

0
54
Ek Duje Ke Liye 1981
Ek Duje Ke Liye 1981

BolBolBollywood, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड दशकों से देश के कलाकार का सपना रहा है। यहां कई आए… गए और लौट और भविष्य में भी आते रहेंगे। यहां की चांदनी में सरोबोर होने की चाहत हर रीजनल इंडस्ट्री के कलाकार में कभी न कभी जागती ही है। ऐसा ही कुछ 1981 में हुआ था। दक्षिण भारतीय सिनेमा में सिक्का जमा चुके दिग्गज खिलाड़ियों ने बालीवुड का रुख करने की ठानी थी। यह वह तारीख थी जब बॉलीवुड इंडस्ट्री में ‘एक और इतिहास’ लिखने की ठान ली थी। दरअसल, 5 जून 1981 को कमल हासन (Kamal Haasan), रति अग्निहोत्री (Rati Agnihotri), माधवी (Madhvi), एसपी सुब्रहमण्यम और के बालाचंदर ने अपने आप को पूरे तामझाम के साथ बॉलीवुड में लॉन्च किया था। फिल्म थी ‘एक दूजे के लिए’ (Ek Duuje Ke Liye 1981)… जिसे पहले ‘एक और इतिहास’ के नाम बनाया जा रहा था लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर ‘एक दूजे के लिए’ (Ek Duuje Ke Liye 1981) कर दिया गया था।

3 अवॉर्ड के साथ 10 फिल्म फेयर नामांकन
बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर के लिए एसपी बालासुब्रमण्यम को नेशनल अवॉर्ड प्रदान किया गया था। इस फिल्म को 10 फिल्म फेयर नामांकर हासिल हुए थे। वहीं, बेस्ट एडिटिंग के लिए एनआर किट्टू, बेस्ट लिरिस्ट आनंद बख्शी और बेस्ट स्क्रीन प्ले के लिए के बालाचंदर को फिल्मफेयर से नवाजा गया था।

1978 की फिल्म मोरा चरित्रा का रिमेक
हकीकत में यह फिल्म 1978 की ‘मारो चरित्रा’ का हिन्दी रिमेक थी। इस फिल्म (Ek Duuje Ke Liye 1981) के अधिकतर कलाकारों को हिन्दी रिमेक के लिए चुना गया था। यानि किला फतह करने की तैयारी में पूरा का पूरा लाव लश्वर दक्षिण से उत्तर की तरफ कूच कर गया था। लेकिन, एक चौंकाने वाली बात थी। वह यह कि मूल तेलुगु फिल्म में प्रमुख कैरेक्टर निभाने वाली सरिता गायब थी। दरअसल, उनक जगह रति अग्निहोत्री को टीम में शामिल कर लिया गया था। बहरहाल, निर्देशक के. बालचंदर, कमल हासन, माधवी और एस.पी. बालसुब्रमण्यम के साथ सभी ने हिंदी संस्करण में अपनी क्रिएटिविटी को पूरी शिद्दत के साथ पेश किया।

एसपी बाला सुब्रहमण्यम की पहली फिल्म
बॉलीवुड इंडस्ट्री में खनकती आवाज के जादूगर एसपी बाला सुब्रहमण्यम की यह पहली बॉलीवुड फिल्म थी। दरअसल, म्यूजिक डायरेक्टर शुरू में उन्हें इस फिल्म में शामिल करने के खिलाफ थे। उनका मानना था कि एक मद्रासी कैसे हिंदी फिल्म के गानों के साथ न्याय कर पाएगा। लेकिन, बालचंदर के तर्क के आगे सब बेबश हो गए। उनका कहना था कि यदि एक तमिल बोलने वाला एक्टर कमल हासन जिसे हिन्दी नहीं आती वह मुख्य भूमिका अच्छी तरह से निभा सकता है तो फिर एसपी बाला सुब्रमण्यम भी अपने काम से पूरा न्याय करेंगे इसमें कोई शक नहीं। उनकी बात सच निकली। फिल्म का वह गाना ‘तेरे मेरे बीच में’ इतिहास की बेहतरीन रचना बनकर वर्तमान में गुनगुनाता हुआ दिखाई दे जाएगा। फिल्म में संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल की सुपरहिट जोड़ी ने रचा था। जबकि गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखे गए थे।

30 मिनट तीन सेकंड के 6 गानों ने मचा दी धूम
फिल्म (Ek Duuje Ke Liye 1981) एक दूजे के लिए में कुछ 6 गाने रखे गए थे। इन गानों में पांच में एसपी सुब्रमण्यम की आवाजें हैं। जबकि एक ‘सोलह बरस की बाली उमर में’ लता मंगेशकर के साथ अनूप जलोटा ने प्ले बैक सिंगिंग की है। हर सॉन्ग एक से बढ़कर एक था और इन्ही सॉन्ग के दम पर ही एक तमिलियिन वासु (कमल हासन) और नार्थ इंडियन सपना (रति अग्निहोत्री) की मुहब्बत पर बुनी गई कहानी दर्शकों को लुभाने में कामयाब रही।