हैप्पी बर्थडे Mithun Da: कभी देखे जाने लगे थे Big B के प्रतिद्वंदी, ‘डिस्को डॉन्सर’ ने बना दिया ‘Indian Jackson’

0
102
Mithun Chakraborty
Mithun Chakraborty

BolBolBollywood, स्पेशल स्टोरी, मुंबई। बॉलीवुड इंडस्ट्री में डॉन्स नंबर की भरपूर शुरुआत करने का श्रेय अगर किसी अभिनेता को जाता है वह है मिथुन चक्रवर्ती। Mithun Chakraborty ने करियर के शुरुआती दौर में उन्होंने पेड़ के आसपास डॉन्स करने वाली परंपरागत शैली का बदलकर इंडस्ट्री को एक नई विधा से रूबरू कराया। 80 के दशक में मिथुन दा ने सही मायने में ‘इंडियन जैक्सन’ साबित हुए है। उन्होंने में डॉन्स प्लोर परअपनी एनर्जेटिक परफॉर्मेंस से अपने दौर के दर्शकों को खूब लुभाया। दरअसल, आज डिस्को डांसर मिथुन चक्रवर्ती 70 साल के हो गए हैं। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में 16 जून, 1950 को Mithun Chakraborty का जन्म हुआ था। उनका जन्म का नाम मिथुन नहीं था। उनके माता-पिता ने उन्हें गौरांग चक्रवर्ती नाम दिया था। लेकिन, उन्होंने बाद में इस नाम का कभी इस्तेमाल नहीं किया। अब तक वे 350 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं और अब भी बॉलीवुड में सक्रिय हैं।

पहली फिल्म ‘मृगया’ को मिला राष्टÑीय पुरस्कार
1976 में मिथुन चक्रवर्ती ने अपने अभिनय करियर की शुरुआत फिल्म ‘मृगया’ से की थी। मिथुन दा को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्टÑीय पुरस्कार भी हासिल हुआ था। इसी साल वे ‘दो अनजाने’ और ‘फूल खिले हैं’ जैसी फिल्मों में कुछ छोटी भूमिकाएं निभाते देखे गए। बहरहाल, इसके बाद दो साल बाद उनके खाते में पहली बड़ी सफल फिल्म 1978 की ‘मेरा रक्षक’ दर्ज की गई।

‘सुरक्षा’ से सुरक्षित हो गया करियर
1979 में रविकांत नागाइच द्वारा निर्देशित लो बजट की जासूसी मूवी ‘सुरक्षा’ ने Mithun Chakraborty के सिने करियर को सुरक्षित कर दिया। वे इंडस्ट्री में नए थे और उनका यहां कोई गॉड फादर भी नहीं था ऐसे में उन्हें यहां पैर जमाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। बहरहाल, सुरक्षा फिल्म इतनी सफल रही कि इसके बाद कई फिल्मों में मिथुन दा (Mithun Chakraborty) को लीड भूमिका में लिया जाना लगा। दीपक बहरी के साथ उनका संयोजन भी 1979 में पहली बार तराना के साथ हुआ और उन्होंने 1980 के दशक में ‘हमसे बढ़कर कौन’ ‘हम से है जमाना’ और ‘वो जो हसीना’ जैसी कई हिट फिल्मों में एक साथ काम किया। 1970 के दशक के अंत में चक्रवर्ती के लिए एक और महत्वपूर्ण फिल्म प्रेम विवाह थी, जिसका निर्देशन बासु चटर्जी ने किया था।

‘डिस्को डॉन्सर’ ने बनाया बेहतरीन डॉन्सर
आगे चलकर उन्हें उन्हें बड़ी म्युजिकल फिल्म डिस्को डांसर से 1982 में मिली थी। यह फिल्म अपने संगीत की वजह से एक बड़ी हिट हुई और आज भी यह पसंद की जाती है। इस फिल्म के साथ दूसरी म्युजिकल फिल्मों मसलन; कसम पैदा करनेवाले की (1984) और डांस डांस (1987) ने उन्हें एक बेहतरीन डांसर के रूप में प्रतिष्ठित किया।

कई फिल्मों में निभाई एंग्री यंग मैन की भूमिका
1980 के दशक के दौरान उन्होंने रोमांटिक और पारिवारिक ड्रामा वाली कई सफल फिल्मों मसलन; मुझे इन्साफ चाहिए (1983), प्यार झुकता नहीं (1985), स्वर्ग से सुन्दर (1986), प्यार का मंदिर (1988) में मुख्य भूमिका में अभिनय किया। इन फिल्मों की गिनती आज भी उनकी सबसे सफल व्यावसायिक फिल्मों में होती हैं। इसके बाद एक के बाद एक फिल्मों में उन्हें एक एक्शन हीरो के रूप में पहचाना जाने लगा। उनका काम लोगों को खूब पसंद आ रहा था। उन्होंने दर्जनों एक्शन और ड्रामा फिल्मों में एंग्री यंग मैन की भूमिकाएं निभाई। इसी वजह से वे एक समय अमिताभ बच्चन के प्रतिद्वंदी के तौर पर देखें जाने लगे थे।

श्रीदेवी के साथ मिथुन का रिश्ता
बॉलीवुड के गलियारों में मिथुन चक्रवर्ती और श्री देवी की मोहब्बत के कई किस्से चर्चाओं में रहे हैं। कहा जाता था कि बोनी कपूर से शादी से पहले श्रीदेवी ने मिथुन चक्रवर्ती के साथ गुपचुप शादी की थी। इतना ही नहीं, एक्ट्रेस ने मिथुन चक्रवर्ती को अपना प्यार साबित करने के लिए बोनी कपूर की कलाई पर राखी भी बांधी थी। इसका खुलासा तब हुआ जब बोनी कपूर की वाइफ मोना शौरी ने एक इंटरव्यू के दौरान सारे राज दुनिया के सामने खोलकर रख दी। दरअसल, साल 1984 में फिल्म ‘जाग उठा इंसान’ की शूटिंग के दौरान मिथुन चक्रवर्ती और श्रीदेवी एक दूसरे के काफी नजदीक आ गए थे। वह एक-दूसरे से इस कदर प्यार करने लगे थे कि उन्होंने साल 1985 में गुपचुप शादी कर ली थी।