लिमिटलेस’ की लॉन्चिंग पर मानुषी छिल्लर

0
94
लिमिटलेस' की लॉन्चिंग पर मानुषी छिल्लर
लिमिटलेस' की लॉन्चिंग पर मानुषी छिल्लर

जल्द ही बहुप्रतीक्षित फिल्म पृथ्वीराज में सुपरस्टार अक्षय कुमार के अपोजिट बड़े पर्दे पर डेब्यू करने वाली बेहद खूबसूरत मानुषी छिल्लर, लिमिटलेस नाम से एक बिग टिकट सोशल मीडिया प्रॉपर्टी लॉन्च कर रही हैं, जिसमें वे देश की सबसे प्रेरक महिलाओं(वीमेन आइकन) से बातचीत करते हुए नजर आएंगी। मानुषी खुद एक यंग एचीवर हैं और इन प्रभावशाली महिलाओं की कहानी को दुनिया के सामने लाना चाहती हैं और यह भी जानना चाहती हैं कि कौन सी चीज उन्हें लगातार जेंडर स्टीरियोटाइप्स को ध्वस्त करने के लिए प्रेरित करती है।

मानुषी कहती हैं, “बड़े होने के दौरान और अब भी, मैं ऐसी कई वीमेन आइकन से प्रभावित रही हूं, जो लगातार रूढ़ियों को तोड़ने का काम कर रही हैं। वे दुनिया भर की अपने साथ की महिलाओं को बड़े सपने देखने के लिए प्रेरित करती हैं। मेरे मन में हमेशा से एक डिजिटल प्रॉपर्टी बनाने का विचार था जो मुझे इन आइकन से रूबरू होने का मौका दे सके और मुझे उनकी जिंदगी के बारे में और अधिक जानने में मदद करे कि उनका दिमाग किस तरह काम करता है और कौन सी बात उन्हें प्रेरित करती है। ”वह आगे कहती हैं, “और एक शानदार एथलीट और हर मायने में आइकन, गीता फोगाट के साथ इस प्रोजेक्ट को लॉन्च करने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस से अच्छा दिन और क्या हो सकता है, जो वास्तव में मेरे दिल के करीब है। हम एक ही राज्य से संबंध रखते हैं और महिलाओं को जागरूक करने में उनका योगदान कमाल का है। उन्होंने हमारे राज्य और देश में महिला अधिकारों के प्रति विमर्श को बदल दिया है।”

मानुषी आगे कहती हैं, “गीता के साथ ‘लिमिटलेस’ नाम के इस स्पेशल प्रोजेक्ट की शुरुआत करना मेरे लिए सम्मान की बात है। मुझे उम्मीद है कि हमारी बातचीत सभी को पसंद आएगी। मैं हमेशा से एक ऐसा प्लेटफार्म तैयार करना चाहती थी जो देश भर की महिला आइकन को एक साथ लाए।” पूरी बातचीत को यहां देखें: https://www.instagram.com/p/CZGsczyMeRT/

इस डिजिटल आईपी का नाम लिमिटलेस रखने के बारे में मानुषी कहती हैं, ” लिमिटलेस, इस प्रोजेक्ट के बारे में काफी कुछ बयां करता है – यह एक महिला होने की असीमित क्षमता को सेलिब्रेट करेगे। इन आइकन की आवाज के जरिए, हमारा लक्ष्य समाज को बेहतर बनाने और समानता की भावना को बढ़ावा देने के लिए जरूरी बातचीत को शुरू करना है। आने वाले महीनों में इसे तैयार करने के लिए मैं कड़ी मेहनत करने जा रही हूं।”

वह आगे कहती हैं, “हर लड़की में दमकने की असीम क्षमता है – उन्हें केवल सही सपोर्ट सिस्टम और सही वातावरण की जरूरत है जो उन्हें अपनी ट्रू पोटेंशियल का एहसास करने में लगातार सक्षम बनाते हैं। इस बातचीत की सीरीज के माध्यम से, हम कुछ सबसे लोकप्रिय लड़कियों से बातचीत करने की उम्मीद करेंगे, जो अपनी इच्छा शक्ति और प्रतिभा के जरिए आधुनिक भारत की आइकंस हैं। वे देश भर की लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।”

इस राष्ट्रीय बालिका दिवस पर लैंगिक समानता को लेकर आवाज उठाने के लिए यूनिसेफ ने मानुषी को भी अपने साथ जोड़ा है। लड़कियों के लिए समान अधिकारों को लेकर बात करने वाली मानुषी कहती हैं, “यह एक बड़ा विरोधाभास है, कि जहां एक तरफ हमारे देश में महिलाएं राजनीति, बिजनेस, कला, खेल, शिक्षा और विज्ञान आदि हर क्षेत्र में उच्चतम स्तर लीड कर रही हैं, फिर भी लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ हिंसा और, लैंगिक भेदभाव, बाल विवाह और कन्या भ्रूण हत्या आम बात है। कोविड-19 महामारी ने इनमें से कई लैंगिक पूर्वाग्रहों की गति को और तेज कर दिया है। लीडर्स और प्रॉब्लम-सॉल्वर के रूप में लड़कियों और महिलाओं की उनकी कम्युनिटी में नेतृत्व क्षमता और जिजीविषा को भी देखा है।”

वह आगे कहती हैं, “एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जो अपने सपनों को जी रहा है, मैं चाहती हूं कि हर एक लड़की को समान अवसर मिले। अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपनी क्षमताओं (पोटेंशियल) का भरपूर इस्तेमाल कर सकने के साथ ही वह भेदभाव और सामाजिक पूर्वाग्रह से रहित जिंदगी जिए। लैंगिक समानता की भावना अपनाने से समाज बेहतर, स्वस्थ प्रगतिशील बनता है और यही आज के लिए मेरा संदेश है।”

जल्द ही बहुप्रतीक्षित फिल्म पृथ्वीराज में सुपरस्टार अक्षय कुमार के अपोजिट बड़े पर्दे पर डेब्यू करने वाली बेहद खूबसूरत मानुषी छिल्लर, लिमिटलेस नाम से एक बिग टिकट सोशल मीडिया प्रॉपर्टी लॉन्च कर रही हैं, जिसमें वे देश की सबसे प्रेरक महिलाओं(वीमेन आइकन) से बातचीत करते हुए नजर आएंगी। मानुषी खुद एक यंग एचीवर हैं और इन प्रभावशाली महिलाओं की कहानी को दुनिया के सामने लाना चाहती हैं और यह भी जानना चाहती हैं कि कौन सी चीज उन्हें लगातार जेंडर स्टीरियोटाइप्स को ध्वस्त करने के लिए प्रेरित करती है।

मानुषी कहती हैं, “बड़े होने के दौरान और अब भी, मैं ऐसी कई वीमेन आइकन से प्रभावित रही हूं, जो लगातार रूढ़ियों को तोड़ने का काम कर रही हैं। वे दुनिया भर की अपने साथ की महिलाओं को बड़े सपने देखने के लिए प्रेरित करती हैं। मेरे मन में हमेशा से एक डिजिटल प्रॉपर्टी बनाने का विचार था जो मुझे इन आइकन से रूबरू होने का मौका दे सके और मुझे उनकी जिंदगी के बारे में और अधिक जानने में मदद करे कि उनका दिमाग किस तरह काम करता है और कौन सी बात उन्हें प्रेरित करती है।

”वह आगे कहती हैं, “और एक शानदार एथलीट और हर मायने में आइकन, गीता फोगाट के साथ इस प्रोजेक्ट को लॉन्च करने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस से अच्छा दिन और क्या हो सकता है, जो वास्तव में मेरे दिल के करीब है। हम एक ही राज्य से संबंध रखते हैं और महिलाओं को जागरूक करने में उनका योगदान कमाल का है। उन्होंने हमारे राज्य और देश में महिला अधिकारों के प्रति विमर्श को बदल दिया है।”

मानुषी आगे कहती हैं, “गीता के साथ ‘लिमिटलेस’ नाम के इस स्पेशल प्रोजेक्ट की शुरुआत करना मेरे लिए सम्मान की बात है। मुझे उम्मीद है कि हमारी बातचीत सभी को पसंद आएगी। मैं हमेशा से एक ऐसा प्लेटफार्म तैयार करना चाहती थी जो देश भर की महिला आइकन को एक साथ लाए।” पूरी बातचीत को यहां देखें: https://www.instagram.com/p/CZGsczyMeRT/

इस डिजिटल आईपी का नाम लिमिटलेस रखने के बारे में मानुषी कहती हैं, ” लिमिटलेस, इस प्रोजेक्ट के बारे में काफी कुछ बयां करता है – यह एक महिला होने की असीमित क्षमता को सेलिब्रेट करेगे। इन आइकन की आवाज के जरिए, हमारा लक्ष्य समाज को बेहतर बनाने और समानता की भावना को बढ़ावा देने के लिए जरूरी बातचीत को शुरू करना है। आने वाले महीनों में इसे तैयार करने के लिए मैं कड़ी मेहनत करने जा रही हूं।”

वह आगे कहती हैं, “हर लड़की में दमकने की असीम क्षमता है – उन्हें केवल सही सपोर्ट सिस्टम और सही वातावरण की जरूरत है जो उन्हें अपनी ट्रू पोटेंशियल का एहसास करने में लगातार सक्षम बनाते हैं। इस बातचीत की सीरीज के माध्यम से, हम कुछ सबसे लोकप्रिय लड़कियों से बातचीत करने की उम्मीद करेंगे, जो अपनी इच्छा शक्ति और प्रतिभा के जरिए आधुनिक भारत की आइकंस हैं। वे देश भर की लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत हैं।”

इस राष्ट्रीय बालिका दिवस पर लैंगिक समानता को लेकर आवाज उठाने के लिए यूनिसेफ ने मानुषी को भी अपने साथ जोड़ा है। लड़कियों के लिए समान अधिकारों को लेकर बात करने वाली मानुषी कहती हैं, “यह एक बड़ा विरोधाभास है, कि जहां एक तरफ हमारे देश में महिलाएं राजनीति, बिजनेस, कला, खेल, शिक्षा और विज्ञान आदि हर क्षेत्र में उच्चतम स्तर लीड कर रही हैं, फिर भी लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ हिंसा और, लैंगिक भेदभाव, बाल विवाह और कन्या भ्रूण हत्या आम बात है। कोविड-19 महामारी ने इनमें से कई लैंगिक पूर्वाग्रहों की गति को और तेज कर दिया है। लीडर्स और प्रॉब्लम-सॉल्वर के रूप में लड़कियों और महिलाओं की उनकी कम्युनिटी में नेतृत्व क्षमता और जिजीविषा को भी देखा है।”

वह आगे कहती हैं, “एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जो अपने सपनों को जी रहा है, मैं चाहती हूं कि हर एक लड़की को समान अवसर मिले। अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपनी क्षमताओं (पोटेंशियल) का भरपूर इस्तेमाल कर सकने के साथ ही वह भेदभाव और सामाजिक पूर्वाग्रह से रहित जिंदगी जिए। लैंगिक समानता की भावना अपनाने से समाज बेहतर, स्वस्थ प्रगतिशील बनता है और यही आज के लिए मेरा संदेश है।”