लेखक बने तरूण जांगिड़ ने दिवंगत अभिनेता इरफान खान से ऐसे ली प्रेरणा

0
25
Tarun jangid with irrfan

कहा जाता है कि ‘सपने सच होते हैं, लेकिन समय ही सब कुछ है। पॉकेट एफएम के लिए ऑडियो सीरीज ‘मुश्किल बड़ा ये प्यार है’ के लेखक तरुण जांगिड़ इस बात को अच्छी तरह समझते हैं। शुरुआत में एक अभिनेता बनने की इच्छा रखने वाले, तरुण ने थिएटर से अपनी यात्रा शुरू की और विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन किया। हालाँकि, भाग्य उन्हें एक अलग रास्ते पर ले आया और उन्हें एक लेखक के रूप में आकार दिया। उनके अभिनय के सपने ने सेंटर स्टेज नहीं लिया जिसके बारे में बात करते हुए तरुण ने एक महत्वपूर्ण क्षण को याद किया और दिवंगत अभिनेता इरफान खान से मुलाकात की ख़ास बात साझा की, जिसने उनके जीवन पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा।

अपने आदर्श दिवंगत अभिनेता इरफान खान के साथ अपनी मुलाकातों के बारे में बात करते हुए, तरुण जांगिड़ ने कहा, “दिवंगत इरफ़ान खान एक ऐसे व्यक्ति थे, जिनकी मैं सबसे अधिक प्रशंसा करता हूँ और वह इंडस्ट्री के उन पहले अभिनेता में से एक थे, जिनसे मैं मिला था। जयपुर में एक कार्यक्रम के दौरान, जहां वह ब्रांड एंबेसडर थे। उस वक्त मैं कॉमर्स की पढ़ाई कर रहा था और साथ ही साथ कार्यक्रम का प्रबंधन भी कर रहा था। मैं हमेशा से उनके काम का बहुत बड़ा प्रशंसक रहा हूं और इरफान खान के संवादों की डबिंग करते हुए छोटे-छोटे वीडियो भी बनाता था। हालांकि इवेंट टीम को व्यक्तिगत बातचीत की अनुमति नहीं थी और मैं उनसे मिलने और तस्वीर लेने के लिए उत्सुक था क्योंकि मैं हमेशा से उनका प्रशंसक रहा हूँ। जब वह एक कमरे में स्क्रिप्ट पढ़ रहे थे, तब मैंने उन्हें और मेहमानों को दो से तीन कप कॉफी ले जाकर उन तक पहुंचने का फैसला किया। जब मैंने अपनी प्रेरणा को अपने सामने देखा तो मैं बहुत खुश हुआ, लेकिन मुझमें उनसे बात करने या तस्वीर माँगने का साहस नहीं था। इसलिए, मैंने चुपचाप कॉफी मेज पर रख दी और वापस चला गया।”

उन्होंने आगे कहा, “अचानक से, इरफान सर ने मुझ पर ध्यान दिया, मुझे देखा और मैंने तुरंत उनसे एक तस्वीर मांग ली। वह कुछ सेकंड के लिए चुप हो गए और मैं डर गया। लेकिन फिर, बड़ी विनम्रता से उन्होंने तस्वीर के लिए हामी भरी और कहा, “हां, हां तस्वीर ले लीजिए, कोई बात नहीं!” जब मैं क्लिक कर रहा था तो मेरे हाथ काँप रहे थे, लेकिन उन्होंने बड़े प्यार से खुद सेल्फी के जरिए हमारी फोटो खींची। उनसे मिलना मेरे जीवन के सबसे अच्छे और ख़ास क्षणों में से एक है, जिसे मैं बहुत याद रखूंगा।”

उन्होंने निष्कर्ष निकालते हुए कहा, “इरफान खान से मुलाकात ने मेरी जिंदगी बदल दी। उनकी विनम्रता और बुद्धिमत्ता ने मुझे चीजों को अलग तरह से देखने का मौका दिया। उस छोटी सी मुलाकात में मुझे प्रेरणा मिली, जैसे एक नया अध्याय शुरू हो रहा हो। जीवन के मोड़ और अधिक सार्थक हो गए, जिन्होंने मुझे सिखाया कि हर मुलाकात, हर पल, सकारात्मक बदलाव ला सकती है। उस मुलाकात से मेरी रुचि थिएटर और लेखन की ओर बढ़ी और आज, मुझे पॉकेट एफएम जैसे प्रतिष्ठित ऑडियो प्लेटफॉर्म के साथ जुड़कर इसके लिए लिखते हुए खुशी हो रही है।

तरुण जांगिड़ द्वारा लिखित ‘मुश्किल बड़ा ये प्यार है’ एक रोमांटिक पारिवारिक ड्रामा ऑडियो सीरीज के रूप में प्रस्तुत किया गया है। यह कहानी नैना पर केंद्रित है, जो अपने अतीत के राक्षसों से ग्रस्त है, जिसका सामना कार्तिक से होता है, जो उसके जीवन में एक नई उम्मीद बनकर आता है। हालाँकि, भाग्य एक विडंबनापूर्ण मोड़ लेता है जब कार्तिक का भाई और नैना के बचपन का दोस्त आर्यन भी उसके लिए भावनाओं को विकसित करता है। ऐसे में नैना को एक बड़ी चुनौती का सामना का पड़ता है जब उसे प्यार के इस जटिल जाल में फंसकर सही चुनाव करना पड़ता है!

अधिक जानने के लिए पॉकेट एफएम डाउनलोड करें और सुनें ‘मुश्किल बड़ा ये प्यार है’ सीरीज।