(Aanand ) आनंद एल राय -फिल्म की आनंद मयी यात्रा

Anandrai birthday special from Bol bol bollywood

(Aanand Rai)आनंद एल रॉय एक फिल्म निर्माता है जो अपनी दिलकश कहानियों के साथ और अपनी बुद्धिमान के साथ भारत को हमारे सामने लेकर आए है।और ऐसे कलाकार

जिसकी हम सभी को आवश्यकता है।

बड़े पर्दे पर हिंदी फिल्म जगत कि दिल की धड़कन पर राज करने वाला सिर्फ एक नाम आनंद एल रॉय । आनंद एल राय (Aanand Rai)एक फिल्म निर्माता है, जिन्होने हर हर गुजरते दिन के साथ भारतीय फिल्मों की कहानियो को बदल रहा है। इनकी फिल्में हमेशा से ही बड़े पर्दो पर कामयाब रही है,और जिन्को दर्शकों के द्वारा सराहा भी गया है।

अपने संस्कारो की तहजीब को बरकरार रखते हुए या फिर यूँ कहाँ जाए कि अपने संस्कारो के साथ चिपके रहना और चरित्रो वाली फिल्मे बनाना ही यह साबित करता है की(Aanand Rai) रॉय उस विषय पर कितनी गहनता से विचार करते है।
मानो ऐसा लगता है,जैसे की इन्हे आधुनिक भारत की धुन की समझ सुनाई देती हो। इनकी खासियत यह है की यह फिल्मो को एक अलग ढंग से प्रस्तूत करते है और इनकी हर बार यही कोशिश रहती की कैसे भी करके भारत को एक प्रगतिशील भविश्य की और ले जाए। अभी तक कोई ऐसा दूसरा कलाकार नही जो इस लक्ष्य से जुड़ा हो,यह एक ऐसा ही त्रुटिहीन काम है,जिस तरह से राय (Aanand Rai)एक मुख्यधारा के नायक को उन विषयों के बारे में बात करने में सक्षम बनाते है जो महत्वपूर्ण हैं लेकिन फिर भी वे मजबुत नहीं बनना चाहते है।

आनंद एल रॉय (Aanand Rai)एक फिल्मकार है जो अपनी दिलकश कहानियों के साथ और अपनी बुद्धिमान के साथ भारत को हमारे सामने लेकर आए है।और ऐसे कलाकार
जिसकी हम सभी को आवश्यकता है। आज उनके 49 वें जन्मदिन पर, हम उनकी कई कृतियों का जश्न मनाते हैं। तनु वेड्स मनु (2011), रांझणा (2013), तनु वेड्स मनु: रिटर्न्स (2015), निल बट्टे सन्नाटा (2016), हैप्पी भाग जाएगी (2016), शुभ मंगल सावधान (2017), न्यूटन (2017), मुक्काबाज़ से (2018), मेरी निम्मो ( 2018), हैप्पी फीर भाग जईगी (2018) से तुंबाड (2018), मनमर्जियां (2918), जीरो (2018) और शुभ मंगल सावधान (2020) – आंनद एल राय और कलर येलो प्रोडक्शन में हमेशा से ऐसा अनूठा काम किया है,जो उन विषयों को छुआ जो कभी भी फिल्मो के लिए अछूत माने जाते थे |