Covid-19 : बॉम्बे हाई कोर्ट ने 65 साल से अधिक उम्र के कलाकारों को दी काम करने की अनुमति

Covid-19

मुंबई | बॉम्बे हाई कोर्ट ने शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार द्वारा जारी उस सरकारी प्रस्ताव को खारिज कर दिया जिसमें COVID-19 महामारी के बीच 65 साल की उम्र से ऊपर के फिल्म और टेलीविजन कलाकारों और क्रू सदस्यों को स्टूडियो या आउटडोर में शूटिंग से रोक दिया गया था।

जबकि राज्य सरकार ने फिल्म और टीवी शूट को फिर से शुरू करने की अनुमति दी थी , लेकिन 10 साल से कम उम्र के सदस्यों और 65 साल से अधिक उम्र के लोगों को सेट पर आने से रोक दिया था। यह क्रू के वरिष्ठ सदस्यों के लिए एक बड़ी चुनौती थी कि वे अपनी आजीविका कैसे कमाएंगे।इसने फिल्म और टीवी क्रू के लिए भी चिंता पैदा की कि वे अपने काम में निरंतरता कैसे बनाए रख पाएंगे, क्योंकि वरिष्ठ कलाकार उनकी कहानी का हिस्सा थे।

पिछले महीने, इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईएमपीपीए) ने राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी | पहले दायर एक याचिका में उन हजारों सदस्यों का भी जिक्र किया गया था जो फिल्मों और टीवी धारावाहिकों के साथ-साथ लघु फिल्मों और अन्य कार्यक्रमों का निर्माण करते हैं, सभी ने आयु सीमा वाले निर्णय को बदलने की अपील की थी |।

कुछ दिनों पहले, HC ने उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली सरकार से इस तरह के कदम के पीछे के तर्क की व्याख्या करने को कहा था क्योंकि यह निर्णय भेदभाव का मामला लग रहा था।हाई कोर्ट ने यह भी कहा था कि ऐसे समय में किसी व्यक्ति को उसकी आजीविका से वंचित नहीं किया जा सकता है।

हाई कोर्ट को जवाब देते हुए, राज्य सरकार ने बताया था कि यह प्रतिबंध कलाकारों की भलाई के लिये ही लगाया गया था क्योंकि कोरोनोवायरस महामारी के दौरान बाहर कदम रखने से उन्हें बीमारी का खतरा होगा। उन्होंने यह भी कहा था कि प्रतिबंध स्थायी नहीं है और 31 जुलाई को नए अनलॉक दिशा-निर्देशों के साथ बदल सकता है|

मगर अब हाई कोर्ट ने इस निर्णय को अस्वीकार करते हुए COVID-19 महामारी के बीच 65 साल की उम्र से ऊपर के फिल्म और टेलीविजन कलाकारों और क्रू सदस्यों को स्टूडियो या आउटडोर में शूटिंग करने की अनुमति दे दी है ।