Me Too में जब तक आरोप नहीं सिद्ध हो जाए उनके साथ काम करना चाहिए – फराह खान

farah khan 1

मुंबई।  फराह खान ने यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुई  #MeToo मुहीम और उनके भाई साजिद खान पर लगे Sexual Harassment पर बात करते हुए कहा है कि उन्हें समाज के उन लोगों की सोच पर आपत्ति है, जो इन मामलों में भी अपनी पाखंडी सोच से काम करते हैं। फराह की मानें तो इस मामले का ट्रायल सोशल मीडिया में किया गया, जो ठीक नहीं था। 

फराह कहती हैं, बस परेशानी इस बात की है कि जो लोग इस मामले में समाज के रखवाले बनते हैं, वह उन सभी के साथ, जिन पर यौन शोषण का आरोप लगा, उनके साथ सामान बर्ताव नहीं करते हैं।’
‘लोगों को ऐसा नहीं करना चाहिए कि अगर किसी आरोपी के साथ उनका संबध अच्छा है और उससे उनका फायदा है तो उनके बारे में वह कुछ नहीं बोलेंगे और जिनसे कोई फायदा नहीं उन्हें फंसा देंगे। यह तरीका ठीक नहीं है। 

उन्होंने कहा कि हमारे यहां न्याय व्यवस्था है, इस मामले को हमें लीगल सिस्टम के जरिए हल करना चाहिए। यहां पर कोई लीगल सिस्टम को फॉलो नहीं कर रहा है, लोग खुद ही अपने हिसाब से डिसाइड कर रहे हैं। यौन शोषण के सभी मामलों को कोर्ट में ले जाना चाहिए, तब तक कोर्ट का कोई डिसीजन सामने न आ जाए, तब तक जिस पर आरोप लगा है, उनके साथ काम करना चाहिए।’

यौन शोषण का आरोप लगने के बाद फिल्म मेकर साजिद खान को फिल्म ‘हाउसफुल 4’ से बतौर डायरेक्टर अलग कर दिया गया था। इस आरोप के बाद फराह खान ने ट्वीट कर यह साफ किया कि वह इस तरह की स्थिति से गुजरने वाली हर महिला का साथ देंगी। इस दौरान वह साजिद और उनका साथ न देने के लिए फरहान अख्तर से नाराज भी हो गई थीं।