मेरी पसंद को दर्शको का प्यार मिला -आयुष्मान खुराना

article 15

आयुष्मान खुराना इन दिनों अपनी पसंद की भूमिकाओं पर ध्यान दे रहे हैं। कंटेंट सिनेमा के पोस्टर ब्वॉय के रूप में जाने जाने वाले, आयुष्मान की अगली तीन फ़िल्में उनके तीन अलग-अलग सामाजिक विषयों पर आधारित होने के बावजूद उन्हें मनोरंजक सिनेमा के रूप में प्रस्तुत करेंगी, ताकि वे भारतीय दर्शकों को आकर्षित कर सकें। बहुमुखी अभिनेता ने अलग-अलग विषयों पर आधारित फिल्मों के लिए खुद को बेहतर तरीके से ढालने का प्रयास किया है, जो आज लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया है।

आयुष्मान कहते हैं, “यदि आप मेरी पसंद की विषयों को देखते हैं, तो आप महसूस करेंगे कि मैं ऐसी परियोजनाओं का समर्थन कर रहा हूं, जिनमें कहने के लिए, सोचने के लिए और चर्चा करने के लिए भी काफी कुछ है, इतना ही नहीं, ये सभी फिल्में अपने तरीके से दर्शकों का मनोरंजन भी करेंगी।”

इस दौरान उन्होंने अपनी अगली तीन फिल्मों के बारे में भी चर्चा की। आयुष्मान ने बताया कि उनकी फिल्म ‘आर्टिकल 15’ वास्तविक जीवन से प्रेरित घटनाओं पर आधारित एक गंभीर इंवेस्टिगेटिव ड्रामा है। जो लोग एक अच्छी इंवेस्टिगेटिव फिल्में देखना चाहते हैं, यह फिल्म निश्चित रूप से उन्हें लुभाएगी और उन्हें सीटों से बांधे रखेगी। इसी तरह -बाला – समय से पहले होने वाले गंजेपन पर आधारित है जो एक वैश्विक विषय है। गंजेपन से केवल भारत ही नहीं दुनिया भर के अधिकांश पुरुष प्रभावित हैं और फिल्म में हम इस कहानी को बिल्कुल नए और मनोरंजक तरीके से प्रस्तुत करने की की कोशिश कर रहे हैं।

इसी तरह ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ के बारे में वे कहते हैं, “इस फिल्म के जरिए भारत में समलैंगिकता के मुद्दे को दिखाया जा रहा है, लेकिन इस बार हम इस कहानी को सबसे सम्मोहक और अब तक के सबसे हल्के-फुल्के अंदाज में प्रस्तुत कर रहे हैं, जो लोगों को गुदगुदाएगी और हां, और लोगों के चेहरे पर मुस्कान भी रहेगी। इस जश्न में सभी के कीमती प्रेम और सहभागिता की जरुरत होगी।”

आयुष्मान का कहना है की दर्शकों के प्यार ने ही उन्हें इस तरह के प्रोजेक्ट पर दुबारा काम करने की शक्ति प्रदान की है। वे कहते हैं, “मुझे लगता है कि दर्शकों ने मुझे इस तरह के प्रोजेक्ट्स को चुनने और चैंपियन बनने की सहमति प्रदान की है, क्योंकि मैं तो केवल इस तरह की अलग-अलग विषयों के पीछे का एक निमित्त मात्र हूं। मैं लोगों का आभारी हूं, जो मेरे साथ खड़े हैं और मेरी इस तरह की फिल्मों को अपनी स्वकृति प्रदान कर रहे हैं। लोगों ने मेरे जैसी अलग आवाज़ को अपना खुद का स्थान बनाने के लिए सहमती दी। ऐसे लोगों को निराश करना या मेरी हर फिल्म की रिलीज पर उनकी उम्मीदे पूरी न करना मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगेगा।”