देखना ना भूले #batlahouse उम्मीद से कही ज्यादा मनोरंजन

#Batlahouse #moviereview #bolbolbollywood

बाटला हाउस #batlahouse जैसी फिल्में बनाना बहुत मुश्किल काम होता है! एक घटना के हो जाने के बाद उस पर समाज का , राजनीतिक दांवपेच का और कानून का पक्ष ध्यान में रखकर जब कोई फिल्मकार अपनी कहानी को कहता है तो जाहिर तौर पर कुछ त्रुटियों की गुंजाइश रहे जाती है| मगर बाटला हाउस की कहानी को लेकर निर्देशक निखिल आडवाणी न सिर्फ सारे पक्ष दिखाने में कामयाब हुए हैं साथ ही इस जटिल कहानी में दर्शकों का ध्यान पूरी तरह से बांधे रखने में भी कामयाब हुए हैं|
फिल्म की कहानी दिल्ली के जामिया नगर में हुए एक एनकाउंटर की सच्ची घटना पर आधारित है| पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार वहां पर कुछ इंडियन मुजाहिदीन के आउटफिट्स के रहने की पुख्ता टिप मिली| उसके बाद पुलिस ने वहां पर जाल बिछाया| मगर वहां हुई फायरिंग के जवाब में पुलिस को भी गोलियां चलानी पड़ी और 4 में से 2 लोग मारे गए| एक को पकड़ा गया और एक फरार हो गया| इस बीच सारी तरफ से हुए विरोध पुलिस को हत्यारा साबित करने पर आमादा हो गई ऐसे में चौथे आदमी को जिंदा पकड़ना पुलिस के लिए चुनौती बन गया था। कैसे पुलिस ने चौथे आदमी को पकड़ा। कैसे स्पेशल सेल को निर्दोष साबित करते हुए इस एनकाउंटर को सही साबित किया इसी पर आधारित है फिल्म बाटला हाउस।

जॉन अब्राहम #johnabraham की जिंदगी का यह अब तक का सबसे बेहतरीन अभिनय हैं। उनकी पत्नी बनी मृणाल ठाकुर एक बेहतरीन अदाकारा है लव सोनिया से आज तक फिल्म डर फिल्म वह इस बात को साबित करती जा रही है।

अगर आप batlahouse एनकाउंटर की घटना से अनजान है। अगर आपको किसी घटना के होने के बाद किस तरह वह राजनीतिक रंग में रंग दी जाती है। यह जानना है तो आपको बाटला हाउस बेहद पसंद आएगी। यह फिल्म पावर फुल कंटेंट की फिल्म है, जो दर्शकों को बांधे रखती है।
5 मैसेज 4:30 स्टार