रणवीर के प्रशंसकों ने उनके जन्मदिन पर एक गांव को किया प्रकाशित!

ranveer singh

मुंबई l आम लोगों के जेहन में रणवीर सिंह की छवि एक सुपरस्टार की है और देश भर में उनकी काफी बड़ी फैन फॉलोइंग है। इस बहुमुखी अभिनेता की एकमात्र इच्छा सिनेमा के माध्यम से लोगों का मनोरंजन करने के साथ ही किसी भी तरीके से लोगों को खुशी पहुंचाना है। यही नहीं रणवीर के प्रशंसकों की एक बड़ी फौज भी है, जो अपने प्रिय ऑन-स्क्रीन स्टार द्वारा निर्धारित मानदंडों पर ही चलना पसंद करती है। यही कारण है कि उन्होंने सुपरस्टार के जन्मदिन (6 जुलाई) के मौके पर कुछ उल्लेखनीय और यादगार काम कर दूसरों के लिए प्रेरणास्रोत बनने का काम किया है!

रणवीर का फैन क्लब, नाम से संचालित होने वाला यह फैन क्लब वर्ष 2015 से ही सक्रिय है। इसकी शुरूआत इंदौर निवासी रणवीर के एक कट्टर प्रशंसक अमीर अली द्वारा की गई थी, जिसका मकसद रणवीर के नाम पर स्वैच्छिक काम करना है। क्लब द्वारा रणवीर के जन्मदिन के अवसर पर हर साल अनाथालयों और गांवों में खुशियां फैलाने का काम किया जाता है और इस क्रम में हाल ही में उनके द्वारा रणवीर ग्राम प्रोग्राम नामक एक कार्यक्रम की शुरूआत की गई है।

“इस साल इस फैन क्लब ने एक गांव में रोशनी फैलाने का काम किया! इसके तहत अकोली नामक एक छोटे से गांव में, उन्होंने 5 सोलर स्ट्रीट लाइट और 5 हाउस लाइटें लगाईं! गौरतलब है कि यहां के ग्रामीण बिजली का खर्च उठाने में अक्षम हैं और इस कारण पिछले एक दशक से भी अधिक समय से इनके द्वारा मिट्टी के तेल का उपयोग किया जा रहा है”। इस संबंध में फैन क्लब के संस्थापक अमिर अली ने कहा कि यहां रहने वाले इन परिवारों के बच्चों के लिए इस तरह की खराब रोशनी में पढ़ाई करना बेहद मुश्किल था। उन्होंने कहा कि रणवीर सिंह का फैन होने के नाते हमें लगता है कि रणवीर सर ने हमें खुश रहना और लोगों के बीच मुस्कुराहट फैलाना सिखाया। ऐसे में अब हर जगह खुशियां और उत्साह फैलाना हमारा कर्तव्य है। उन्होंने आने वाले दिनों में इस तरह के काम को जारी रखने की इच्छा भी जतायी।

गांव में लाइट लगाने के बाद फैन क्लब द्वारा जारी किए गए एक वीडियो में, लोगों को काफी उत्साहित और फैन क्लब के इस पहल की सराहना करते हुए देखा जा सकता है। गांव की एक महिला का कहना है कि “मेरा नाम आशा ट्रिंबक अहेड है। हम पिछले 17 वर्षों से जंगल में रहते आ रहे हैं और हमारे पास बिजली का कोई स्रोत भी नहीं है”। फैन क्लब के प्रति आभार प्रकट करते हुए उक्त महिला ने कहा कि उनके द्वारा गांव में रोशनी पहुंचाने से पहले वे लोग अंधेरे में ही रहने को मजबूर थे। गांव के एक बच्चे को भी फैन क्लब की सराहना करते हुए सुना और देखा जा सकता है। बच्चे ने कहा कि “केरोसीन लैम्प के प्रकाश में पढ़ने के दौरान उसे काफी परेशानी होती थी और अक्षर भी सही तरीके से नहीं दिखते थे। उसने फैन क्लब को धन्यवाद देते हुए कहा कि अब वह इस प्रकाश में सही तरीके से पढ़ाई कर सकता है”।